|

पाकिस्तान को हुआ अब तक का सबसे बड़ा घाटा।

न्यूज एजेंसीः इमरान खान को पाकिस्तान का प्रधानमंत्री बने एक साल पूरा हो गया है, लेकिन बीते एक साल में पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था डूबने की कगार पर पहुंच गई है। पाकिस्तानी अखबार की वेबसाइट डॉन में छपी खबर के मुताबिक, पिछले एक साल में फिस्कल डेफिसिट (वित्तीय घाटा) रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है। यह GDP का 8.9 फीसदी हो गया है। डॉन की रिपोर्ट में बताया गया है कि पाकिस्तान की आजादी के बाद अब तक का यह सबसे बड़ा फिस्कल डेफिसिट है। अगर आम भाषा में समझें तो मतलब साफ है कि सरकार की आमदनी घट गई और खर्चों में जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है। आपको बता दें कि IMF ने भी कुछ दिन बाद ही बेलआउट  पैकेज के लिए पहली बार समीक्षा करने जा रहा है। ऐसे में पाकिस्तान के लिए नई चुनौतियां पैदा हो सकती हैं। IMF ने पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए तमाम कड़ी शर्तें रखी थीं, लेकिन फिलहाल किसी भी शर्त पर इमरान की सरकार खरी उतरती नजर नहीं आ रही है। 
पाकिस्तान को हुआ अब तक का सबसे बड़ा घाटा- 
पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, पाकिस्तान का फिस्कल डेफेसिट देश के कुल घरेलू उत्पाद का 8.9 फीसदी (3.45 ट्रिलियन पाकिस्तानी रुपए) तक पहुंच गया है जबकि पिछले साल यह 6.6 फीसदी था. >> इमरान खान की सरकार की नाकामी का यह एक बड़ा सबूत है, क्योंकि सरकार ने खुद बजट घाटा जीडीपी का 5.6 फीसदी तक सीमित रखने का लक्ष्य तय किया था. पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय के मुताबिक, सरकार का बजट घाटा तय लक्ष्य से 82 फीसदी बढ़ गया है. भारी-भरकम बजट घाटे की वजह से 2019-20 का बजट दो महीने के भीतर ही अपनी अहमियत खो चुका है.

Posted by रवि चौहान on 2:33 pm. Filed under , , , , , . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. Feel free to leave a response

0 टिप्पणियाँ for "पाकिस्तान को हुआ अब तक का सबसे बड़ा घाटा।"

Leave a reply

सर्वाधिक पढ़ी गयी

Recently Added

Recently Commented