|

उत्तर प्रदेश राजस्व परिषद के अध्यक्ष ने कलेक्ट्रेट के कार्यालयों के स्थलीय निरीक्षण के उपरांत अधिकारियों के साथ बैठक कर दिए आवश्यक दिशा निर्देश

ग्रेटर नोएडा संवाददाता, राजस्व कार्यों में गतिशीलता लाने तथा मानकों के अनुरूप समयबद्धता के साथ राजस्व वादों का निस्तारण करने के उद्देश्य से आज उत्तर प्रदेश राजस्व परिषद के अध्यक्ष प्रवीर कुमार के द्वारा जनपद गौतमबुधनगर का सघन भ्रमण करते हुए प्रथम चरण में कलेक्ट्रेट परिसर में स्थापित कार्यालयों का स्थलीय निरीक्षण करते हुए अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किए गए। इसके उपरांत उनके द्वारा कलेक्ट्रेट के सभागार में एक महत्वपूर्ण बैठक आहूत करते हुए राजस्व कार्यो में गतिशीलता लाने के उद्देश्य से अधिकारियों को निर्देशित किया गया। अध्यक्ष द्वारा कलेक्ट्रेट में पहुंचने पर उन्होंने आंग्ल कार्यालय, संयुक्त कार्यालय, राजस्व रिकॉर्ड रूम, अपर जिलाधिकारी प्रशासन न्यायालय, जिला मनोरंजन कर अधिकारी, जिला आबकारी अधिकारी, जिला पूर्ति अधिकारी तथा कोषागार में पहुंचकर डबल लॉक का स्थल निरीक्षण किया गया। स्थल निरीक्षण करते हुए प्रवीर कुमार ने समस्त राजस्व रिकॉर्ड को मानकों के अनुसार रखरखाव करने के लिए निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि जन सामान्य की जो प्रकरण कलेक्ट्रेट एवं राजस्व कार्यालयों में प्राप्त हो रहे हैं उनका निस्तारण शासन की मंशा के अनुरूप समय पर सुनिश्चित किया जाए ताकि शासन एवं सरकार की मंशा का लाभ आम नागरिकों को तत्काल प्रभाव से पहुंचे। उन्होंने निरीक्षण के दौरान सभी कार्यालयों में साफ-सफाई एवं रिकॉर्ड के संबंध में आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किये। तत्पश्चात राजस्व परिषद के अध्यक्ष प्रवीर कुमार के द्वारा कलेक्ट्रेट के सभागार में एक महत्वपूर्ण बैठक करते हुए राजस्व विभाग के सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि राजस्व वादों का निस्तारण नियमित रूप से न्यायालय का कार्य संपादित करते हुए दायरे एवं मानकों के अनुरूप संपादित करने की कार्यवाही सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि राजस्व वसूली कार्यक्रम में सभी राजस्व विभाग के अधिकारियों द्वारा प्रमुखता के साथ अभियान चलाकर यह कार्य सुनिश्चित करें ताकि अधिक से अधिक डिमांड के अनुरूप राजस्व वसूली सुनिश्चित की जा सके। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि धारा 34 एवं धारा 80 के राजस्व वाद ऑनलाइन दर्ज कराए जा रहे हैं तहसील सदर में 35 सौ से अधिक धारा 34 के वाद ऑनलाइन प्राप्त होने के सापेक्ष निस्तारण न करने पर नाराजगी प्रकट की और इस कार्य को 15 दिन का समय प्रदान करते हुए निस्तारित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि सीमांकन का कार्य वर्तमान में चल रहा है। अतः इसे गुणवत्ता के साथ पूर्ण करने की कार्यवाही सभी अधिकारियों के द्वारा सुनिश्चित की जाएगी। लेखपाल हल्का, राजस्व निरीक्षक हल्का, नायब तहसीलदार क्षेत्र का निर्धारण एवं मैपिंग का कार्य तत्काल प्रभाव से पूर्ण करने की कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। और इस कार्य में राजस्व परिषद के निर्देशों का अक्षर से पालन सुनिश्चित करते हुए यह कार्य किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि रिट याचिकाएं जो लंबित हैं उनका निस्तारण भी सभी अधिकारियों द्वारा अभियान संचालित करते हुए तत्काल प्रभाव से निस्तारण सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि न्यायालय का कार्य करते हुए न्यायिक आदेश कोटेड पेपर पर ही जारी किया जाए किसी भी दशा में सादे पेपर पर न्यायिक आदेश निर्गत नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पूरे उत्तर प्रदेश में डेढ़ लाख से अधिक धारा 34 के वाद लंबित चल रहे हैं। अतः इस दिशा में सभी अधिकारियों द्वारा गंभीरता के साथ कार्यवाही सुनिश्चित करते हुए निस्तारण करने की कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी। उन्होंने इस अवसर पर किसान सर्वहित बीमा योजना के संबंध में भी समीक्षा की और अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किए। उन्होंने कहा कि राजस्व परिषद की ओर से खसरा खतौनी का कार्य शत-प्रतिशत रूप से ऑनलाइन कर दिया गया है। अब कोई भी व्यक्ति इसका लाभ उठाते हुए ऑनलाइन सेवा प्राप्त कर सकता है। राजस्व परिषद के इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम का अधिक से अधिक जनसामान्य में प्रचार किया जाए ताकि जन सामान्य राजस्व परिषद के इस महत्वपूर्ण ऑनलाइन कार्यक्रम का भरपूर लाभ घर बैठे प्राप्त कर सकें। इस अवसर पर उन्होंने अधिकारियों को यह भी निर्देशित किया कि अधिकारियों एवं कर्मचारियों के व्यक्तिगत प्रकरणों का निस्तारण तथा सेवानिवृत्ति संबंधी प्रकरण में किसी प्रकार की और किसी भी स्तर पर देरी नहीं की जाएगी तथा सभी का निस्तारण तत्काल प्रभाव से सुनिश्चित किया जाएगा ताकि राजस्व परिषद की मंशा के अनुरूप सभी अधिकारियों कर्मचारियों को लाभ प्राप्त हो सके। उन्होंने ने बैठक के दौरान जिलाधिकारी से जनपद की समस्याओं के बारे में भी जानकारी प्राप्त की। जिलाधिकारी द्वारा गौतम बुध नगर कलेक्ट्रेट में स्टाफ की कमी होना अवगत कराया गया। जिस के संदर्भ में उन्होंने आश्वस्त किया कि इस कार्य को राजस्व परिषद की ओर से संज्ञान लेते हुए कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी। आयोजित बैठक में जिलाधिकारी बी एन सिंह ने माननीय अध्यक्ष को आश्वस्त किया कि राजस्व कार्यो में गतिशीलता लाने एवं समयबद्धता के साथ पूर्ण करने के संदर्भ में जो निर्देश दिए गए हैं उनका अधिकारियों के माध्यम से अक्षर से पालन सुनिश्चित कराते हुई कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी ताकि जनसामान्य को सरकार एवं शासन की मंशा के अनुरूप राजस्व कार्यों का और अधिक लाभ प्राप्त हो सके। आयोजित महत्वपूर्ण बैठक में स्टाफ ऑफिसर राजस्व परिषद कुमार विनीत, अपर जिलाधिकारी प्रशासन दिवाकर सिंह, अपर जिलाधिकारी भूमि अध्याप्ति बलराम सिंह, उपजिलाधिकारी सदर प्रसून द्विवेदी, उप जिलाधिकारी जेवर गुंजा सिंह, उपजिलाधिकारी दादरी राजीव राय, तहसीलदार तथा अन्य संबंधित अधिकारियों के द्वारा भाग लिया गया।

Posted by रवि चौहान on 6:42 pm. Filed under , . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. Feel free to leave a response

0 टिप्पणियाँ for "उत्तर प्रदेश राजस्व परिषद के अध्यक्ष ने कलेक्ट्रेट के कार्यालयों के स्थलीय निरीक्षण के उपरांत अधिकारियों के साथ बैठक कर दिए आवश्यक दिशा निर्देश"

Leave a reply

सर्वाधिक पढ़ी गयी

Recently Added

Recently Commented