|

नगला औहवा में ग्रामीणों का चुनाव बहिष्कार।

संवाददाता‚ फिरोज खान‚ मथुरा। विकास की अनदेखी पर ग्रामीणों ने किया फैसला सुरीर: गांव नगला औहावा में विकास की अनदेखी पर ग्रामीणों ने चुनाव बहिष्कार का फैसला किया है। गुरुवार को गांव में पंचायत के दौरान ग्रामीणों ने इस निर्णय की जानकारी दी। नौहझील ब्लॉक के औहावा के मजरा गांव नगला औहवा में करीब 650 मतदाता है। इस गांव के आने-जाने वाली सड़क पिछले करीब एक दशक से क्षतिग्रस्त पड़ी है। ग्रामीणों को आने-जाने को भारी परेशानी का सामना का सामना करना पड़ रहा है। उबड़-खाबड़ रास्ता होने के कारण देर-सवेर आवागमन के दौरान हादसे का भय बना रहता है। गांव में खारा पानी होने से पीने के पानी की किल्लत बनी हुई है। करीब दो किलोमीटर दूर से पीने का पानी लाना पड़ता है। गांव के समीप होकर जा रही खांवल माइनर में भी कई वर्षों से पानी नहीं आ रहा है। पशुओं को पानी पिलाने के लिए आसपास खेतों पर लगे ट्यूबेल अथवा दूसरे दूसरे गांव के पोखर तालाब में ले जाना पड़ता है। गांव में मूलभूत समस्याओं का अभाव है। विकास नाम की तो कोई सुविधा नहीं है। कई बार जनप्रतिनिधियों एवं प्रशासन को गांव की समस्याओं के बारे में अवगत कराया है लेकिन खोखले आश्वासन के बाद आज तक इस दिशा में कोई प्रगति दिखाई नहीं दी है। गांव में विकास की अनदेखी से नाराज ग्रामीणों ने इस चुनाव में वोट न डालने का मन बना रखा है। गुरुवार को इस मामले को लेकर गांव में पंचायत हुई। जिसमें ग्रामीणों ने इन मुद्दों को रखते हुए इस बार किसी दल अथवा प्रत्याशी को वोट न देने का फैसला किया है। ग्रामीणों का कहना है कि जब हमें मूलभूत सुविधाएं भी नहीं मिल रही है सो अब चुनाव में वोट देने का क्या मतलब है। पंचायत में सतीश, कन्हैयालाल, वदन सिंह, श्याम सिंह, विजय सिंह, नेतराम, सुनहरीलाल, चोखेलाल समेत तमाम ग्रामीण उपस्थित थे।

Posted by रवि चौहान on 4:29 pm. Filed under , . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. Feel free to leave a response

0 टिप्पणियाँ for "नगला औहवा में ग्रामीणों का चुनाव बहिष्कार।"

Leave a reply

सर्वाधिक पढ़ी गयी

Recently Added

Recently Commented