|

मोक्षदा हरित शवदाह प्रणाली को लेकर गोष्ठी आयोजित।

राजीव शर्मा जिला प्रभारी सहारनपुर। गंगोह विधि विधान के साथ दाह संस्कार भी हो जाये और लकडी भी 70 प्रतिशत कम लगने के साथ ही पर्यावरण को भी कोई खतरा न हो तो इससे बेहतर क्या हो सकता है। ऐसी ही मोक्षदा हरित शवदाह प्रणाली को लेकर यहां एक गोष्ठी का आयोजन हुआ। योजना को सभी ने सराहते हुए यहां भी हरित शवदाह लगाये जाने की बात को स्वीकृति प्रदान की। श्री महादेव मन्दिर में श्री लक्ष्मी नारायण मंडल की पहल पर आहूत गोष्ठी में बोलते हुए मोक्षदा हरित शवदाह प्रणाली के संस्थापक गाजियाबाद से पधारे विनोद कुमार अग्रवाल ने बताया कि उक्त विधि से शवदाह पूर्ण रुपेण धार्मिक रस्मोरिवाज के अनुसार लकडी व उपलों से ही किया जाता है। फर्क सिर्फ इतना है कि इससे लकडी की भारी बचत होने से व्यय बेहद कम हे जाता है, गंगा व अन्य पवित्र नदियों में विसर्जन से बचाव होता है साथ ही कार्बन डाई आक्साईड गैस के उत्सर्जन में कमी आती है। मोक्षदा को न केवल राष्ट्रसंघ वरन तमाम साधु संतो व पर्यावरणविदों ने सराहा है। कार्यक्रम की अध्यक्षता उपाध्यक्ष रघुनन्दन गोयल व संचालन पूर्व वाईस चेयरमैन कश्यप कुमार फौजी ने किया। वक्ताओं में कालेज प्रबन्धक योगेश गर्ग, पूर्व सभासद डाॅ. राकेश गर्ग, रघुनन्दन गोयल, डाॅ. अनूप भटनागर, प्रेस क्लब अध्यक्ष अरविन्द टेबक रहे। इस अवसर पर मूलराज गर्ग, राकेश गोयल, सचिन गर्ग, समर्थ गोयल, रामकृष्ण गोयल, अंकित ऐरन, आदेश नामदेव, विजयपाल, रमेश चंद गर्ग, डां. अमित गर्ग, भाजयुमो नेता गगन गर्ग, शशांक गोयल, प. राजेन्द्र शर्मा, अनिल, केबी टंडन व सनोज कुमार आदि रहे।

Posted by रवि चौहान on 3:11 pm. Filed under , . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. Feel free to leave a response

0 टिप्पणियाँ for "मोक्षदा हरित शवदाह प्रणाली को लेकर गोष्ठी आयोजित।"

Leave a reply

सर्वाधिक पढ़ी गयी

Recently Added

Recently Commented