|

सरकार के शिक्षा स्तर की बृद्धि प्रणाली के प्रयासरत के बाद भी बच्चे खुले मे बैठकर पढने को मजबूर।

संवाददाता‚ नरेश शर्मा‚ बृजघाट। गढ़मुक्तेश्वर क्षेत्र के ग्राम पंचायत आलमगीरपुर के प्राथमिक विद्यालय में स्थान की कमी होने के कारण बच्चे खुले में पढ़ने को हुए मजबूर बीती रात कड़ाके की ठंड और भारी बारिश के चलते स्कूल में जलभराव होने से और बिल्डिंग की कमी होने के कारण बच्चे खुले में बैठकर पढ़ने को मजबूर हो रहे हैं स्कूल के विद्यालय में बच्चों की संख्या लगभग 245 है जो क्षेत्र के लगभग सभी विद्यालयों से अधिक प्रतीत होती है के बावजूद भी बच्चों को बैठने के लिए किसी तरह की कोई सुविधा नहीं है बच्चों को बैठने के लिए ना कमरे हैं और ना ही कोई सरकारी स्तर पर बैठेंने के लिए फर्श आदि है विद्यालय में देखने में आया कि बच्चे एक साथ खुले में बैठकर पढ़ाई कर रहे थे प्राथमिक विद्यालय में सरकार द्वारा कि  पढ़ाई के स्तर बढ़ाया जाए के बाद पढ़ाई का स्तर तो काफी हद तक  अच्छा है विद्यालय के बच्चे को अध्यापकों द्वारा शिक्षा अचछे स्तर पर दी जा रही है बच्चे ज्ञान वर्धक रूप  में भी काफी अच्छे हैं लेकिन विद्यालय में कमरों की कमी और स्थान की कमी के कारण बच्चे एक साथ बैठकर पढ़ने को मजबूर हो रहे हैं इसकी जानकारी एबीएसए पंकज अग्रवाल से की गई तो उन्होंने बताया की बिल्डिंग बनाने के लिए जगह देखी जा रही है लेकिन अभी तक विद्यालय के लिए ग्राम बलवापुर में जगह चिन्हित नहीं हो पाई है विद्यालय के प्रधानाचार्य सोहन पाल का कहना है कि विद्यालय में बच्चों को पढ़ाने के लिए काफी परेशानी हो रही है जगह कम है कई बार मौखिक व लिखित सूचना दी गई है ग्राम प्रधान के द्वारा भी प्रस्ताव भेजे  गए हैं लेकिन विभागीय स्तर से अभी तक बिल्डिंग की लिए कोई सुनवाई नहीं हुई है और बच्चे ठंड में खुले में पढ़ने को मजबूर है कहने को तो उत्तर प्रदेश की सरकार शिक्षा के स्तर को सुधारने में लगी हुई है लेकिन शासन को भी देखना चाहिए कि विद्यालयों में बच्चों के लिए किस तरह की कमियां हैं उन्हें भी पूरा करना चाहिए आज विद्यालय में बच्चों को खुले मे  शिक्षा ग्रहण करते पाया गया  बड़ा आश्चर्य हुआ कि सरकार पैसा पानी की तरह बहा रही है लेकिन समस्या ज्यों की त्यों बनी हुई है।

Posted by रवि चौहान on 5:55 pm. Filed under , . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. Feel free to leave a response

0 टिप्पणियाँ for "सरकार के शिक्षा स्तर की बृद्धि प्रणाली के प्रयासरत के बाद भी बच्चे खुले मे बैठकर पढने को मजबूर।"

Leave a reply

सर्वाधिक पढ़ी गयी

Recently Added

Recently Commented