|

कोई भूखा न रहे। सबको दो वक्त का भरपेट भोजन मिल जाए। इसी सोच के साथ शुरू की गई ‘सब की रसोई वैन ।

अमित तौमर संवाददाता।   परतापुर में औद्योगिक क्षेत्र  है, जहां हजारों लोग नौकरी करते हैं। हर व्यक्ति को भरपेट भोजन मिले इसी उद्देश्य के साथ समाजसेवी डॉ. एसके सूरी ने बच्चा पार्क, बेगमपुल, मेडिकल कॉलेज, जेलजुंगी, दिल्ली रोड पर सबकी रसोई शुरू की थी। अब यह रसोई . औद्योगिक क्षेत्र   में स्टैग इंटरनेशनल के सामने भी आज 15.02.2019 से शुरू हो गयी है ।
डॉ. सूरी ने बताया कि सबकी रसोई में हर दिन अलग भोजन उपलब्ध कराया जा रहा हैं। हर तीसरे दिन खाने का रोटेशन बदल दिया जाता है। इस अवसर पर स्टैग इंटरनेशनल के चेयरमैन श्री राकेश कोहली और अभिनेत्री /समाजसेविका श्रीमती मोनिका कोहली जी ने शुभारम्भ  किया इस अवसर पर स्टैग के अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे
पहले ही दिन कई जरूरतमंदों को महज पांच रुपये में भोजन कराया गया। वरिष्ठ चिकित्सक डा. एसके सूरी और उनकी टीम की ओर से शुरू की गई सबकी रसोई के पहले ही दिन भारी संख्या में लोगों की भीड़ उमड़ी। आसपास के श्रमिकों के साथ ही राहगीरों ने भी पांच रुपये में भरपेट खाना खाया और नई शुरूआत को सराहा। डा. सूरी ने कहा कि आज भी हमारे शहर में हजारों परिवार ऐसे हैं जिनको दो वक्त की रोटी भी नसीब नहीं हो पाती। जरूरतों के अभाव में लोग भूखे सोने को मजबूर हैं। हर व्यक्ति का पेट भरे और उसे भोजन मिले, इसी उद्देश्य के साथ सबकी रसोई शुरू करने की पहल की है । भूखे को रोटी खिलाना ही मानवता है। वैसे भी जीवन के लिए रोटी, कपड़ा और मकान बेहद जरूरी हैं। ये तीन मूलभूत सुविधाएं हैं, जिनके बिना जीवन कल्पना आसान नहीं है। इसमें भी रोटी यानि खाना सबसे पहले है। कोई भूखा न रहे और सभी को भरपेट भोजन मिले ।
रोजाना 200 लोगों को भोजन कराने की योजना है। विशेष बात है कि डा. एसके सूरी की ओर से बेगमपुल, बच्चापार्क, जेलचुंगी व मेडिकल कॉलेज में पहले से ही इस तरह की सबकी रसोई का संचालन किया जा रहा है।

Posted by रवि चौहान on 5:53 pm. Filed under , , , . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. Feel free to leave a response

0 टिप्पणियाँ for " कोई भूखा न रहे। सबको दो वक्त का भरपेट भोजन मिल जाए। इसी सोच के साथ शुरू की गई ‘सब की रसोई वैन ।"

Leave a reply

सर्वाधिक पढ़ी गयी

Recently Added

Recently Commented