|

जम्मू-कश्मीर में शहीद हुए सहारनपुर का जवान‚ अंतिम यात्रा में उमड़ा जन सैलाब।

जिला संवाददाता‚ राजीव कुमार‚ सहारनपुर। जम्मू-कश्मीर में शहीद हुए सहारनपुर के जवान जबर सिंह की अंतिम यात्रा में भारी संख्या में जनसमूह उमड़ पड़ा। जैसे-जैसे सूरज रात की चादर से बहार निकलना शुरू हुआ धीरे-धीरे गाँव भरमऊँ की और आस-पास के गाँवों के लोगो का जन सैलाब चल पड़ा। इस दौरान आयुष मंत्री धर्मि सिंह सैनी, विधायक कुंवर ब्रिजेश, प्रदीप चाैधरी समेत कमिश्रनर सीपी त्रिपाठी, डीआईजी शरद सचान, डीएम आलाेक कुमार, एसएसपी दिनेश पी के अलावा पूर्व विधायक महावीर सिंह राण, सपा जिलाध्यक्ष रूद्रसैन, अतुल प्रधान समेत अन्य जनप्रतिनिधि मुख्य रूप से माैजूद रहे। इस दौरान जनसमूह ने अपने चहेते शहीद जबर सिंह को विन्रम श्रधांजलि देते हुए "जब तक सूरज चांद रहेगा जबर सिंह तेरा नाम रहेगा", वन्दे मातरम, भारत माता की जय आैर पाकिस्तान मुर्दाबाद के नाराें का उदघोष किया। सलामी के बाद पूरे सम्मान के साथ जबर सिंह के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार कर दिया गया। जिलाधिकारी आलाेक कुमार ने शहीद जबर सिंह की पत्नी रविता काे 25 लाख रुपये आर्थिक सहायता राशि का चेक दिया। इस दाैरान रविता अपने आँखाें से बहते आँसुआें काे राेक नहीं पाई बावजूद इसके इसके खुद काे हिम्मत बंधाते हुए रविता ने कहा कि उन्हे पति की शहादत पर गर्व है आैर सरकार की आेर से जाे सहायता राशि मिली है उससे वह अपने बच्चाें का लालन-पालन करेंगी। शहीद जबर सिंह काे यहां माैजूद जनप्रतिनिधियाें आैर पुलिस प्रशासनिक अधिकारियाें के अलावा यहां पहुंचे हजाराें लाेगाें ने श्रद्धाजंलि दी। जब जबर सिंह का पार्थिव शरीर पहुंचने की खबर फैली ताे गांव के लाेग दाैड़ पड़े। गांव से कई किलाेमीटर पहले ही युवाआें ने तिरंगे में लिपटे जबर सिंह के शरीर काे कंधाें पर उठा लिया। कई किलाेमीटर तक युवा आैर गांव के अन्य लाेग जबर सिंह के शरीर काे अपने कंधे पर लेकर गांव पहुंचे। जबर सिंह की अंतिम यात्रा पर पुष्पवर्षा हाेती रही आैर इस अंतिम यात्रा में शामिल लाेग भारत की जय आैर अमर शहीद जबर सिंह के नारे लगाते रहे।
घटना काे लेकर अभी भी संशय
जबर सिंह कैसे शहीद हुए इस सवाल का जवाब अभी तक स्पष्ट नहीं है। यह बात सामने आ रही है कि बम फटने से हुए धमाके की चपेट में आने से जबर सिंह शहीद हुए लेकिन यह घटना कैसे हुई इसकी अधिकारिक पुष्टि अभी तक नहीं हुई है। बता दें कि कोतवाली नुकुड़ क्षेत्र के गांव भैर मऊ निवासी जबर सिंह पुत्र सिताब सिंह बीएसएफ में तैनात थे। सोमवार रात बॉर्डर पर शहीद होने की उनकी खबर गांव पहुंची थी। इस खबर के साथ पूरे गांव में दुःख पसर गया था। जबर सिंह के भाई जगदीश ने गांव वालाें काे बताया था कि बार्डर पर उनके भाई जबर सिंह देश के लिए शहीद हो गए हैं। जबर सिंह सांबा सेक्टर में तैनात बीएसएफ 173 बटालियन की यूनिट मे थे। जबर सिंह काे 13 दिसंबर को छुट्टी पर घर लौटना था और परिवार के लोग बेसब्री से उनका इंतजार कर रहे थे।   शहीद जबर सिंह के पार्थिव शरीर काे उनके बेटे हर्षित ने मुख्गनि दी है। जब मासूम हर्षित ने अपने शहीद पापा की चिता काे मुख्गनि दी ताे इस दृश्य को देख रहे लाेग अपनी आंखाे में आंसुआें काे राेक नहीं पाए।

Posted by रवि चौहान on 5:10 pm. Filed under , , , , , . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. Feel free to leave a response

0 टिप्पणियाँ for "जम्मू-कश्मीर में शहीद हुए सहारनपुर का जवान‚ अंतिम यात्रा में उमड़ा जन सैलाब।"

Leave a reply

सर्वाधिक पढ़ी गयी

Recently Added

Recently Commented