|

10 घंटे मौत से लड़ी नन्ही सी नवजात‚ फिर इस मतलबी दुनिया को छोड़ हो गई रुखसत।

संवाददाता‚ पंकज शर्मा‚ देहरादून। बिंदाल नदी में रविवार में भोर में मिली नवजात बच्चे दून अस्पताल में दोपहर के वक्त मौत हो गई। वाकया रविवार सुबह 6:30 बजे का है। शिवाजी वार्ड में बिंदाल नदी में किसी बच्चे के रोने की आवाज सुन आने जाने वाले लोग ठिठक गए। आसपास के लोगों ने देखा की नदी के किनारे कीचड़ से सनी एक नवजात बच्ची पड़ी हुई है‚ और रो रही है। लोगों ने उसकी खबर वार्ड के नवनिर्वाचित औषध विशाल को दी विशाल तुरंत मौके पर पहुंचे और बच्चे को निकाला और एक बाइक सवार की मदद से दून अस्पताल में भर्ती कराया। सुबह करीब 7:30 बजे बच्चे का इलाज शुरू हो सका। चिकित्सकों ने पहले उसके शरीर पर लगे कीचड़ को साफ किया और उसके बाद छाती और हाथ में सूजन को देख डॉक्टरों को शक हुआ की बच्ची के फ्रैक्चर है। एक्स-रे कराने पर एक्स-रे से यह बात साबित हो गई। बच्ची ने कीचड़ में पड़े पड़े रहने के कारण गंदा पानी पी लिया था। जिसको निकालने के लिए डॉक्टरों द्वारा भरसक प्रयास प्रयास किया गया एवं पानी निकाल दिया गया। परंतु इतना सब कुछ होने के बाद भी डॉक्टर बच्ची को नहीं बचा पाया और बच्ची ने दोपहर तकरीबन 1:30 बजे आखरी सांस ली यह देख अस्पताल में पहुंचने वालों की आंखों में आंसू छलक उठे एसएसपी देहरादून के द्वारा बयान दिया गया की नवजात बच्ची को नदी में फेंक ना संगीन अपराध है। जिसकी की जांच की जाएगी यह घृणित कृत्य किसके द्वारा किया गया लोगों का कहना था की यदि उस बच्चे को उसकी मां के द्वारा नहीं अपना नाम था तो किसी सुरक्षित जगह पर भी रखा जा सकता था। जहां उसे कोई अपना लेता बच्ची को घर मैं 3:00 से 4:00 के बीच फेंके जाने की संभावना लगती है।

Posted by रवि चौहान on 5:35 pm. Filed under , , , , , . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. Feel free to leave a response

0 टिप्पणियाँ for "10 घंटे मौत से लड़ी नन्ही सी नवजात‚ फिर इस मतलबी दुनिया को छोड़ हो गई रुखसत।"

Leave a reply

सर्वाधिक पढ़ी गयी

Recently Added

Recently Commented