|

ऐतिहासिक नगरी हस्तिनापुर में श्रद्धा सदन का किया निरीक्षण।

संवाददाता‚ रविन्द्र चौहान‚ हस्तिनापुर। तरुण मित्र परिषद गत 40 वर्षों से निरंतर समाज के पिछड़े वह उपेक्षित वर्ग की सेवा सहायता कर रही है। इसी उद्देश्य से परिषद को सभी का भरपूर सहयोग से उत्तर प्रदेश की ऐतिहासिक नगरी हस्तिनापुर में श्रद्धा सदन का निरीक्षण किया गया। जिसका 15 अगस्त 2010 को शिलान्यास और 15 अगस्त 2013 उत्तर प्रदेश की ऐतिहासिक नगरी हस्तिनापुर में श्रद्धा सदन का निरीक्षण किया गया। जिसका 15 अगस्त 2010 को शिलान्यास और 15 अगस्त 2013 को उद्घाटन परिषद की संरक्षिका सुधा गुप्ता राजपुर रोड डीएस ग्रुप द्वारा किया जाता था। अतः परिषद द्वारा प्रतिवर्ष 15 अगस्त को शिलान्यास है। स्थापना दिवस मनाया जाता है। इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस पर वहां राष्ट्रीय ध्वज फहराने के साथ दो सौ गयारा ग्रामीण छात्राओं को स्कूल यूनिफॉर्म वितरित की जाएंगी। इस वर्ष आयोजित होने वाले शिविरों की श्रंखला में 33 वा दिव्यांग कैंप श्रंखला मृदुला जैन अशोक जैन कागजी परिवार के सहयोग से जैन मंदिर परिसर में लगाया जाएगा। जिसमें दिव्यांगों को कर्मी अंग हाथ और पैर पोलियो ग्रस्त बच्चों को कैलीपर्स आदि प्रदान करने हेतु 23 सितंबर को नाप लेकर 7 अक्टूबर को यह सहायक उपकरण वही प्रदान किए जाएंगे। वह एक सौ अठारह व नेत्र चिकित्सा शिविर भी मंदिर अध्यक्ष विनोद बिहारी जैन के सहयोग से लगाया जाएगा। इसी प्रकार 34 व दिव्यांग कैंप सम्मेद शिखर मधुबन के जिला गिरीडीह झारखंड में 1 दिसंबर को अनीता जैन की स्मृति में प्रमोद जैन कागजी परिवार के सहयोग से लगाया जाएगा। जिसमें 17 18 दिसंबर को दिव्यांगों को उपरोक्त सहायक उपकरण प्रदान किए जाएंगे। परिषद का गलत 41 वां वार्षिक समारोह 9 दिसंबर को प्यारे लाल भवन नई दिल्ली में संपन्न होगा। जिसमें साधनहीन विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति स्टेशनरी दिव्यांगों को सहायक उपकरण विधवाओं को सिलाई मशीनें आदि उपलब्ध कराई जाएंगी। इस अवसर पर श्रद्धा सदन के अध्यक्ष अशोक जैन ने बताया कि हमारी संस्था निशाय और गरीब लोगों के लिए ही कार्य कर रही है। शिक्षा के क्षेत्र में भी योगदान दे रही है। अतः अधिक से अधिक निशाहय और गरीब लोगों को इसका लाभ लेने के लिए हमारी संस्था से संपर्क करने की आवश्यकता है। हमारी संस्था ने अभी तक सैकड़ों लोगों को सहारा देकर विकलांग से पूर्ण बना दिया है। जिससे आदमी आत्मनिर्भर हो गया है और अपने काम कार्य स्वयं कर सकता है क्रमिक हाथ-पैर लगाकर हमारी संस्था ने निस्सहाय लोगों को भी कामकाजी बना दिया है।

Posted by रवि चौहान on 12:02 pm. Filed under , , , , , . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. Feel free to leave a response

0 टिप्पणियाँ for "ऐतिहासिक नगरी हस्तिनापुर में श्रद्धा सदन का किया निरीक्षण।"

Leave a reply

सर्वाधिक पढ़ी गयी

Recently Added

Recently Commented