|

यमुना में छोड़े गए पानी से बाढ़ जैसे हालात‚ ग्रामीण हुए पलायन को मजबूर।

संवाददाता‚ राजीव कुमार‚ सहारनपुरः जनपद में भले ही बारिश रुक गई हो लेकिन यमुना का पानी अब भी तबाही मचा रहा है। हथनीकुंड बैराज से छोड़ा गया पानी सहारनपुर के तटवर्ती इलाकों में अब तबाही मचा रहा है। दर्जनों गांवों में यमुना का पानी घुस चुका है। हालांकि प्रशासन एहतियात के तैर पर कल ही इन गांवों में लोगों से सुरक्षित स्थान पर जाने की अपील की थी। तीन दिन से लगातार बरसते पानी से भले ही लोगों को निजात मिल 20 घण्टे से ज़्यादा वक्त बीत चुका है। लेकिन यमुना के पानी का कहर जारी है। दरअसल कल रात हथनीकुंड बैराज से छह लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया था। दिल्ली पहुंचने से पहले ही यमुना का पानी हरियाणा-यूपी के बॉर्डर पर सहारनपुर और यमुनानगर के गांवों में तबाही का सबब बन गया है। सहारनपुर के दर्जनों गांवों में इस वक्त बाढ़ जैसे हालात हैं। जिसके चलते हुए ग्राम झरोल्ली की जनता ने पलायन शुरू कर दिया है। औरते बच्चे बुजुर्ग इस बढ़ते पानी के जलस्तर से डरे हुए है। आस-पास के क्षेत्रो में भी पानी -पानी नजर आ रहा है। 
खेतों में खड़ी हज़ारों बीघा फसल नष्ट हो चुकी है। सड़क-खेत यहां तक की बॉर्डर की पुलिस चौकी भी पानी की खतरनाक धार के आगे बेबस हैं। पानी के तेज बहाव से कई जगहों पर सड़क बह गई है। ज़रा सोचिए यही पानी जब अगले 24 घन्टे में दिल्ली पहुंचेगा तो वहां के निचले इलाकों में क्या हालात पैदा होंगे। आफत बन चुकी बारिश से निपटने के लिए प्रशासन ने कमर कस ली है। सहारनपुर के डीएम ने बताया कि तहसील स्तर पर कन्टेन्जेन्सी प्लान बनाया गया है। आपदा से निपटने के लिए आपातकालीन व्यवस्थाएं की गई हैं। मेरठ से सेना की एक टुकड़ी को भी बुलाया गया है। ज्ञात रहे अभी तक जनपद में बारिश से मकान गिरने की घटनाओं में अभी तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है।

Posted by रवि चौहान on 6:32 pm. Filed under , , , , , . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. Feel free to leave a response

0 टिप्पणियाँ for "यमुना में छोड़े गए पानी से बाढ़ जैसे हालात‚ ग्रामीण हुए पलायन को मजबूर।"

Leave a reply

सर्वाधिक पढ़ी गयी

Recently Added

Recently Commented