|

बारिश के मौसम में टूटी छतों के नीचे खतरों के बीच ज़िन्दगी गुज़ारने को मजबूर गरीब परिवार।

संवाददाता‚ नबी चौधरी‚ मुज्जफरनगर। खण्ड विकास अधिकारी मोरना की लापरवाही व भृष्ट तन्त्र की पोल बारिश ने खोल दी है। गरीबों को मुफ्त में आशियाना देने के सरकार के दावों की हवा निकालने के लिये लापरवाह अधिकारी अपनी करनी में कोई कसर शेष नहीं छोड़ना चाहते हैं। भोपा व युसुफपुर गाँवों में डेढ दर्जन से अधिक परिवार बारिश के बीच पक्का मकान न होने की सूरत में छप्पर डालकर बारिश की टपकती बूंदों के बीच जीवन गुज़ारने को मजबूर हैं। ग्राम युसुफपुर की माया पत्नी करनपाल कश्यपए अमरेश पत्नी लीलाराम कश्यप का कच्चा गिर जाने से गरीब परिवार अस्थाई तम्बू बना कर उसके नीचे रह रहा है। भोपा स्थित नई बस्ती की वार्ड सदस्या ने बताया कि बस्ती के दर्जनों कच्चे मकानों को बनवाने के लिये वह वृषो से प्रयासरत हैं। किन्तु ग्राम सचिव व BDO की लापरवाही के चलते निराशा ही हाथ लगी है। ग्रामीणों का कहना है कि वह रिश्वत की मोटी रकम की व्यवस्था ब्याज पर कर तो सकते हैं। लेकिन मकान कब बनेगा इसकी कोई गारन्टी नही है।

Posted by रवि चौहान on 6:03 pm. Filed under , , , , , . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. Feel free to leave a response

0 टिप्पणियाँ for "बारिश के मौसम में टूटी छतों के नीचे खतरों के बीच ज़िन्दगी गुज़ारने को मजबूर गरीब परिवार।"

Leave a reply

सर्वाधिक पढ़ी गयी

Recently Added

Recently Commented