निराश्रित और असहाय 250 लाभार्थियों को किये कम्बल वितरण

सोनू शर्मा संवाददाता, गौतमबुद्दनगर जिलाधिकारी बीएन सिंह के निर्देशन में तहसील जेवर के अधिकारियों के द्वारा आज रबूपुरा में 250 पात्र लाभार्थियों को कंबल का वितरण किया गया। इस सम्बन्ध में तहसीलदार जेवर अभय कुमार सिंह ने जानकारी देते हुए अवगत कराया गया है कि आज रबुपुरा में ऐसे निराश्रित एवं असहाय व्यक्तियों की खोज करते हुए शीतलहरी से बचाव के उद्देश्य से जिला प्रशासन की ओर से कंबल वितरण किया गये हैं। आगे भी इसी प्रकार तहसील क्षेत्र में जो निराश्रित एवं असहाय पात्र व्यक्ति हैं उनका चिन्हीकरण करते हुए उन्हें भी कंबल का वितरण किया जाएगा।

3:22 pm | Posted in , | Read More »

गेहूं का रकबा पिछले साल से 6% कम, चने में 14% की बढ़ोतरी

रबी फसलों की बोआई का सीजन अंतिम दौर में पहुंचने के बावजूद गेहूं और तिलहनों का रकबा पिछले साल की तुलना में कम बना हुआ है. लेकिन, दलहन के रकबे में जोरदार इजाफा हुआ है. जींस कारोबारियों का कहना है कि बीते सीजन में किसानों को गेहूं और सरसों का उचित दाम नहीं मिला जबकि चने और मसूर का बाजार भाव पूरे साल न्यूनतम समर्थन मूल्य से ऊंचा रहा है. इसीलिए किसानों ने गेहूं व सरसों के बजाय चने और मसूर की खेती में दिलचस्पी दिखाई है.केंद्रीय कृषि सहकारिता एवं कल्याण विभाग की वेबसाइट पर शुक्रवार को प्रकाशित रबी बोआई के साप्ताहिक आंकड़ों के मुताबिक देशभर में गेहूं की बोआई 273.85 लाख हेक्टेयर भूमि में हो चुकी है, जोकि पिछले साल की समान अवधि के आंकड़े 290.74 लाख हेक्टेयर से 5.81 फीसदी कम है। देशभर में गेहूं का औसत रकबा 301.74 लाख हेक्टेयर रहता है.दलहन फसलों की बोआई में मामला अलग है। इन फसलों की बोआई 150.63 लाख हेक्टेयर में हो चुकी है जोकि पिछले साल की समान अवधि के रकबे 138.34 लाख हेक्टेयर से 8.89 फीसदी ज्यादा है.चने की बोआई अब तक 101.88 लाख हेक्टेयर में हो चुकी है जोकि पिछले साल के 89.26 लाख हेक्टेयर से 14.13 फीसदी अधिक है. चने का रकबा तो राष्ट्रीय औसत 86.81 लाख हेक्टेयेर से भी काफी ज्यादा हो चुका है.मसूर का रकबा 16.83 लाख हेक्टेयर दर्ज किया गया है जोकि पिछले साल के 16.11 लाख हेक्टेयर से 4.49 फीसदी अधिक है.लेकिन, तिलहनों की बोआई पिछले साल के मुकाबले इस बार सुस्त रही है. अब तक प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक, पिछले साल के मुकाबले तिलहनों की बोआई 6.65 फीसदी कम हुई है. सभी रबी तिलहनों का रकबा 74.27 लाख हेक्टेयर है जबकि पिछले साल की समान अवधि में यह 79.56 लाख हेक्टेयर था.सरसों की बोआई 63.58 लाख हेक्टेयर में हो चुकी है, जोकि पिछले साल की समान अवधि के आंकड़े 68.94 लाख हेक्टेयर से 7.77 फीसदी कम है.चालू बोआई सीजन (2017-18) में देशभर में रबी फसलों का रकबा पिछले साल के मुकाबले एक फीसदी कम है. ताजा आंकड़ों के मुताबिक कुल रबी फसलों की बोआई 565.79 लाख हेक्टेयर में हो चुकी है, जोकि राष्ट्रीय औसत 623.53 लाख हेक्टेयर से काफी ज्यादा है लेकिन पिछले साल के समान अवधि के आंकड़े 571.47 लाख हेक्टेयर से 0.99 फीसदी कम है.उज्जैन के जींस कारोबारी संदीप सारडा ने बताया कि मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र में किसानों ने गेहूं के बजाय चना व अन्य फसलों में ज्यादा दिलचस्पी ली है क्योंकि पिछले साल उनको गेहूं का उचित भाव नहीं मिला.  देश के दूसरे सबसे बड़े गेहूं उत्पादक राज्य मध्य प्रदेश में 42.61 लाख हेक्टेयर में गेहूं की बोआई हुई है जबकि पिछले साल की समान अवधि में गेहूं का रकबा 50.37 लाख हेक्टेयर था.इसी प्रकार देश के सबसे बड़े गेहूं उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश में भी पिछले साल के 97.58 लाख हेक्टेयर के मुकाबले इस साल अब तक 92.65 लाख हेक्टेयर में गेहूं की बोआई हो पाई है.सरकार ने गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य पिछले साल 1625 रुपये प्रति क्विंटल तय किया था, जिसे आगामी सीजन के लिए बढ़ाकर 1,635 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है. लेकिन, उत्पादन ज्यादा होने की वजह से मध्य प्रदेश और राजस्थान में क्वालिटी गेहूं बाजार भाव अभी भी 1600-1700 रुपये प्रति क्विंटल है, जबकि कटाई सीजन में 1400-1550 रुपये प्रति क्विं टल था.

1:40 pm | Posted in , , , , , | Read More »

खुशखबरी: पीएनबी ने डिपॉजिट पर 1.25 प्रतिशत तक बढ़ाई ब्याज दरें

सार्वजनिक क्षेत्र के पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने विभिन्न मियाद की 10 करोड़ रुपए तक की डिपॉजिट पर ब्याज दरों में 1.25 प्रतिशत तक वृद्धि करने की शनिवार को घोषणा की. ये दरें पहली जनवरी से लागू होंगी.बैंक के अनुसार, एक करोड़ रुपए तक की राशि के लिए 7-29 दिन की डिपॉजिट पर ब्याज दर चार प्रतिशत से बढ़ाकर 5.25 प्रतिशत कर दिया गया है. इसी तरह 30-45 दिन की डिपॉजिट पर ब्याज दर 4.50 से बढ़ाकर 5.25 प्रतिशत कर दी गई है. 46-90 दिन की डिपॉजिट पर ब्याज दर 6.25 प्रतिशत ब्याज मिलेगा जो पहले 5.50 प्रतिशत थी. 91-179 दिन की डिपॉजिट पर दर छह से बढ़ाकर 6.25 प्रतिशत कर दी गई है.बैंक एक से दस करोड़ रुपये तक की बड़ी राशि की 7-45 दिन की मियाद वाली जमा पर अब चार की जगह 4.8 प्रतिशत ब्याज देगा. इसी तरह 46-179 दिन की डिपॉजिट पर चार की जगह 4.9 प्रतिशत, 180-344 दिन की डिपॉजिट पर 4.25 की जगह पांच प्रतिशत ब्याज मिलेगा.एक साल की अवधि वाले डिपॉजिट पर ब्याज दर पांच से बढ़ाकर 5.7 प्रतिशत, एक से तीन साल के लिए पांच से बढ़ाकर 5.5 प्रतिशत तथा तीन से 10 साल की अवधि के लिए ब्याज दर पांच से बढ़ाकर 5.25 प्रतिशत कर दी गई है.

1:38 pm | Posted in , , , , , | Read More »

शतरंज : आनंद ने विश्व ब्लिट्ज चैम्पियनशिप में जीता कांस्य पदक

विश्व रेपिड शतरंज चैम्पियनशिप अपने नाम करने के दो दिन बाद, भारतीय ग्रैंड मास्टर और पांच बार के विश्व विजेता विश्वनाथ आनंद ने शनिवार को रियाद में खेली गई किंग सलमान फिडे विश्व ब्लिट्ज चैम्पियनशिप में तीसरा स्थान हासिल किया है.विश्व चैम्पियन मैग्नस कार्लसन ने 16 अंकों के साथ टूर्नामेंट में पहला स्थान हासिल  किया है. उनके बाद दूसरे स्थान पर सर्जी कारजाकिन हैं जिन्होंने 14.5 अंक हासिल किए .चैम्पियनशिप के दूसरे दिन शनिवार को आनंद ने पांच मैच जीते और पांच ड्रॉ कराए. उनको इस टूर्नामेंट में इकलौती हार रूस के इयान नेपोमनिच्टेची के खिलाफ मिली.तीसरे नंबर पर रहने के कारण कांस्य पदक जीतने वाल आनंद ने अपनी खुशी का इज़हार ट्विटर पर करते हुए लिखा,'मैं अपने खेल से बहुत खुश हूं. 2018 मुबारक हो! अब फैमिली टाइम है. यह तस्वीर मेरी पत्नी के लिए है. उसने मुझे मेडल संभाल कर लाने को कहा है. यह इसी का यह सबूत है.'कार्लसन ने चैम्पियनशिप में दो मैच गंवाए और अपनी श्रेष्ठता साबित करते हुए खिताब अपने नाम किया.

1:37 pm | Posted in , , , , , , | Read More »

पीबीएल-3 : सायना ने कुछ इस अंदाज में की वापसी

देश की अग्रणी बैडमिंटन स्टार सायना नेहवाल ने शनिवार को चोट के बाद कोर्ट पर विजयी वापसी करते हुए प्रीमियर बैडमिंटन लीग (पीबीएल) के तीसरे सीजन में अपनी टीम-अवध वॉरियर्स को नार्थ ईस्टर्न वॉरियर्स के खिलाफ अजेय बढ़त दिला दी.ओलम्पिक कांस्य पदक विजेता सायना ने तीन गेम तक चले बेहद रोमांचक मैच में नार्थ ईस्टर्न की मिशेल ली को 6-15, 15-13, 15-13 से मात दी. इस जीत के बाद सायना ने बेहद जोरदार तरीके से जश्न मनाया.सायना हालांकि पहला गेम आसानी से हार गई थीं, लेकिन आखिरी के दो गेम जीतते हुए उन्होंने अपनी टीम को 4-0 की अजेय बढ़त दिलाई. पहला गेम 6-15 से हारने के बाद दूसरे गेम में सायना ने ली को कड़ी चुनौती दी. उन्होंने 2-0 से शुरुआत की और फिर 8-7 की बढ़त ले ली जिसे 15-13 तक पहुंचा गेम अपने नाम कर मैच तीसरे गेम में ले गईं.तीसरा गेम बेहद रोमांचक रहा. सायना ने 2-0 के स्कोर से शुरुआत की. फिर स्कोर 8-5 कर लिया. यहां ली ने वापसी की और स्कोर 8-8 हो गया. यहां से अंकों की लुका-छुपी देखी गई. सायना ने स्कोर 10-9 कर लिया. इस बढ़त को बनाए रखते हुए सायना ने तीसरा गेम 15-13 से जीत इस लीग में अपनी पहली जीत दर्ज की.सायना चोट के कारण लीग के पहले मैच में चेन्नई स्मैशर्स के खिलाफ कोर्ट पर नहीं उतर पाई थीं. सायना ने मैच के बाद कहा कि वह चोट से उबरने के बाद लीग में जीत के साथ शुरुआत करना चाहती थीं और इस जीत से वह खुश हैं लेकिन आगे के मैचों में उन्हें कोर्ट पर मूवमेंट को लेकर सावधान रहना होगा.इससे पहले, दिन के पहले मैच में मिश्रित युगल में क्रिस्टिना पेडरसन और तान चुन मान की जोड़ी ने प्राजक्ता सावंत और किम जी जुंग की जोड़ी को 15-14, 15-13 से मात देते हुए दो अंक अपनी टीम के खाते में डाल लिए. यह अवध का ट्रम्प मैच था.गौरतलब है कि पीबीएल में हर टीम का एक मैच ट्रम्प मैच होता है. ट्रम्प मैच जीतने वाली टीम को दो अंक मिलते हैं जबकि अगर टीम अपना ट्रम्प मैच हार जाती है तो एक नकारात्मक अंक मिलता है.इस मैच के बाद पुरुष युगल में भारत के पारुपल्ली कश्यप वॉरियर्स की तरफ से और भारत के ही अजय जयराम नार्थ ईस्टर्न की तरफ से कोर्ट पर उतरे. जहां कश्यप ने जयराम को 15-9, 15-12 से मात देते हुए जीत हासिल की और अपनी टीम के खाते में एक अंक डालते हुए उसे 3-0 से आगे कर दिया.

1:36 pm | Posted in , , , , , | Read More »

कोहली का 'विराट' यकीन, साउथ अफ्रीका में जीतेगी टीम इंडिया

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने शनिवार को अपनी टीम पर भरोसा जताते हुए कहा कि टीम संतुलित है और साउथ अफ्रीका में टेस्ट सीरीज़ जीतने का माद्दा रखती है.भारतीय टीम साउथ अफ्रीका के 56 दिन के दौरे पर है. जहां वो तीन टेस्ट, छह वनडे और तीन टी20 मैचों की सीरीज़ खेलेगी. टेस्ट सीरीज़ की शुरुआत 5 जनवरी से हो रही है.कोहली ने साउथ अफ्रीका पहुंचने के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'हमारे पास सही गेंदबाज़ी आक्रमण है और टीम के पास हर स्थिति में जीत हासिल करने का संतुलन भी.'उन्होंने आगे कहा,'हमारे लिए यह सत्र दर सत्र जीतने, वर्तमान में रहने, अपनी योग्यताओं को लागू करने का मसला है न कि हम जिस देश में खेल रहे हैं उसके इतिहास में जाने का.'कोहली ने कहा कि टीम के खिलाड़ियों के पास अच्छा अनुभव है और अब समझ भी कि टेस्ट मैच कैसे जीता जा सकता है.कोहली ने कहा, 'कई खिलाड़ी यहां खेले हैं. हम सभी अपने खेल को अच्छे से जानते हैं. एक टीम के तौर पर हमें अपनी व्यक्तिगत योग्यताओं पर भरोसा है.'उन्होंने कहा, 'हमें पता है कि हमें मैच के समय क्या करना है. हम जानते हैं कि हमें टेस्ट मैच कैसे जीतने हैं.'जबकि कोहली ने इस बीच अपने और दक्षिण अफ्रीका के के अब्राहम डिविलियर्स की प्रतिद्वंद्विता को खारिज कर दिया.भारतीय कप्तान ने कहा,'यह सिर्फ दो खिलाड़ियों के बीच की बात नहीं है. डिविलियर्स मेरे अच्छे दोस्त हैं. वह जिस तरह से खेलते हैं मैं उसका सम्मान करता हूं. मैं एक इंसान के तौर पर उनका सम्मान करता हूं.'कोहली ने कहा,'लेकिन जब हम एक दूसरे के खिलाफ खेलते हैं तो यह सीमा को लांघने की बात नहीं होती है, हम इस तरह के नहीं हैं.'

1:34 pm | Posted in , , , , , , , | Read More »

इन 5 बदलावों के साथ रिलीज होगी 'पद्मावती', CBFC चीफ ने खारिज की कट की बात

विवादों में रही पद्मावती फिल्म की रिलीज का रास्ता साफ हो गया है. सेंसर बोर्ड की एक कमिटी ने फिल्म को देखने के बाद फैसला किया है कि फिल्म को कुछ बदलाव करने होंगे जिनसे बाद ही फिल्म को यू/ए सर्टिफिकेट दिया जा सकेगा. इन बदलावों में फिल्म का नाम भी शामिल है, यानी फिल्म का नाम 'पद्मावती' से बदलकर 'पद्मावत' किया जा सकता है.खबरें थीं कि सेंसर बोर्ड ने फिल्म में 26 कट करने के लिए कहा है, इन खबरों को खारिज करते हुए सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने कहा कि फिल्म में कट लगाने का सुझाव नहीं दिया गया है. बल्कि पांच बदलाव सुझाए गए हैं.
ये होंगे वो पांच बदलावः
- फिल्म में ये डिस्क्लेमर देना होगा कि फिल्म किसी भी तरह से ऐतिहासिक तथ्यों के सही होने का दावा नहीं करता.
- भंसाली ने कहा है कि फिल्म जायसी की कविता 'पद्मावत' पर आधारित है, इसलिए फिल्म का नाम 'पद्मावती' से बदलकर 'पद्मावत' करना होगा.
- फिल्म के घूमर गाने की प्रस्तुति में रानी पद्मावती के चरित्र के मुताबिक जरूरी बदलाव करने होंगे.
- ऐतिहासिक जगहों के गलत या भ्रामक संदर्भ में सुधार करने की जरूरत है.
- फिल्म के डिस्क्लेमर में यह स्पष्ट किया जाए कि यह फिल्म जौहर या सती प्रथा का महिमा मंडन नहीं करती है.
फिल्म देखने वाले पैनल में राजा अरविंद सिंह, उदयपुर, जयपुर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर के.के. सिंह और डॉ. चंद्रमणि सिंह भी शामिल थे.
कहा ये भी जा रहा है कि फिल्म को यूए सर्टिफिकेट के साथ रिलीज किया जाएगा. अब इंतजार इस बात का है फिल्म जनवरी में ही रिलीज कर दी जाएगी या इसके लिए लंबा इंतजार करना होगा.

1:32 pm | Posted in , , , , , | Read More »

'पद्मावती' की रिलीज पर बोले निहलानी, 'वोटबैंक की राजनीति का शिकार हुई फिल्म'

सेंसर बोर्ड की तरफ से संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावती' की रिलीज का रास्ता साफ होता दिख रहा है. फिल्म को 26 कट के साथ और नाम बदलकर रिलीज करने पर सहमति बन गई है. फिल्म अगले साल की शुरुआत में रिलीज हो सकती है. इस पूरे मसले पर अब सेंसर बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष पहलाज निहलानी ने अपनी राय जाहिर की है.उन्होंने कहा, 'अब माहौल शांत है. मुझे लगता है कि ये अब इसलिए हुआ है कि क्योंकि उन्हें लगता है कि अब फिल्म को रिलीज करने का सही समय है.'पहलाज निहलानी बतौर सेंसर बोर्ड चीफ अपने कार्यकाल के दौरान कई तरह के विवादों में फंसे रहे हैं. अब पद्मावती पर आए सेंसर के फैसले को लेकर उनका कहना है कि सेंसर बोर्ड पर हर तरफ से दबाव था, लेकिन उन्हें इस फिल्म को देखने में देर नहीं करनी चाहिए थी. अगर उन्होंने देर की है, तो ये एक बड़ा सवाल है कि उन्होंने ऐसा क्यों किया. इसके पीछे राजनीतिक कारण थे. निहलानी का यहां कहना है कि हिंदी सिनेमा को राजनीति की वजह से काफी कुछ झेलना पड़ता है.बता दें कि विवादों में रही पद्मावती फिल्म की रिलीज का रास्ता साफ हो गया है. 26 कट के साथ इसे रिलीज किया जाएगा. शुरुआती जानकारी के मुताबिक, फिल्म का नाम भी बदलकर 'पद्मावत' किया जा सकता है. फिलहाल सेंसर बोर्ड की प्रक्रिया चल रही है. नए साल में पूरी जानकारी आ सकती है.सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (CBFC) ने फिल्म के साथ एक डिस्क्लेमर लगाने के लिए भी कहा है. इसमें बताया जाएगा कि फिल्म का किसी ऐतिहासिक किरदार या पृष्ठभूमि से कोई लेना-देना नहीं है. बताया जा रहा है कि सेंसर बोर्ड की ओर से बनाई गई समीक्षा समिति के दिशा-निर्देशों पर ये फैसला लिया गया है.

1:31 pm | Posted in , , , , , | Read More »

साल 2018 में टीवी पर क्या नया आने वाला है?

इंडियन टीवी पर कुछ नया हर महीने आता ही रहता है. साल 2018 में बिग बॉस खत्म होने वाला है. साथ ही प्राइम टाइम पर कुंडली भाग्य और कुमकुम भाग्य ने अपनी पकड़ जमाए रखी है. अब जल्द ही टीवी पर कुछ नए शोज शुरू होने वाले हैं, जो आपको टीवी पर कुछ बेहतरीन ऑप्शन देंगे:
इश्क पाकीजा: जीटीवी पर जनवरी 2018 में शुरू हो रहा है शो 'इश्क पाकीजा'. इस शो में जिज्ञासा सिंह और अदनान खान मुख्य भूमिका में नजर आएंगे. 'ट्रिपल तलाक' के संवेदनशील मुद्दे पर बना यह शो लखनऊ के एक मुस्लिम परिवार की कहानी है.
कलीरें: जीटीवी पर ही एक और नया शो शुरू हो रहा है, नाम है 'कलीरें'. इसी नाम से एक धारावाहिक सालों पहले डीडी मेट्रो पर प्रसारित होता था. रोमांटिक ड्रामा इस शो में अर्जित तनेजा नजर आएंगे. प्यार और तकरार की इस कहानी को दर्शक जनवरी 2018 में देख सकेंगे.
जीजाजी छत पे हैं: भाभी जी घर पे हैं के निर्माता जल्द ही सबटीवी पर एक नया शो लेकर आ रहे हैं. इस शो का नाम है, 'जीजाजी छत पे हैं'. मिलता जुलता नाम और मिलते-जुलते कलाकारों से सजा यह शो भी दर्शकों को खूब हंसाएगा.
कहीं तो होगा 2: 2003 से 2007 तक स्टार प्लस पर आने वाला यह शो युवाओं के बीच बहुत मशहूर था. सूजल और कशिश का प्यार उस दौर की सबसे हिट लवस्टोरी थी. अब जल्द ही इस शो का दूसरा सीजन साल 2018 में आने वाला है.
शरारत 2: काफी लंबे अरसे से स्टार प्लस के शो शरारत का दूसरा सीजन आने की ख़बरें जोरों पर थीं. श्रुति सेठ, फरीदा जलाल और करनवीर बोहरा जैसे कलाकारों के एक बार फिर से रीयूनियन होने की खबरें जोरों पर थीं. उम्मीद है कि जादू और कॉमेडी से भरा यह शो इसी साल ऑन एयर आएगा.
सास बिना ससुराल सीजन 2: साल 2010 से 2012 तक सोनी टीवी पर प्रसारित हुए इस शो की कहानी एक लड़की तान्या की थी जिसकी शादी एक ऐसे परिवार में होती है जहां सिर्फ आदमी ही हैं. अब इस ड्रामा शो का दूसरा सीजन भी साल 2018 में आने वाला है.

1:29 pm | Posted in , , , , , | Read More »

बिग बॉस: हिना को छोड़ बंदगी की तरफ हो गए बॉयफ्रेंड रॉकी

बिग बॉस में 'वीकेंड का वार' की शुरुआत हुई सलमान के वार से. इस बार सलमान घरवालों पर सवाल बरसाने के लिए पूरी तरह तैयार होकर आए थे और अकेले नहीं थे. उनके साथ थे घरवालों के असली घरवाले.'वीकेंड का वार' में इस बार बंदगी, रॉकी, आशुतोष और आकाश की मम्मी भी आए थे और सलमान ने उन्हें मौका दिया घरवालों से सवाल पूछने का. ये सवाल-जवाब राउंड काफी मजेदार रहा.इससे पहले सलमान ने घरवालों से कहा कि बंदगी और रॉकी का अफेयर चल रहा है और दोनों एक-दूसरे के काफी क्लोज आ गए हैं. इस पर एक बारगी तो हिना और पुनीश की शक्ल देखने वाली थी, लेकिन एपिसोड खत्म होने तक सभी ये समझ चुके थे कि सलमान मजाक कर रहे हैं.सलमान ने घरवालों को ये भी बताया कि पड़ोसियों के घर में विकास की मम्मी ने उनके लिए बहू ढूंढ ली है. इस पर उन्होंने विकास और शिल्पा की दूल्हा-दुल्हन बने फोटो भी दिखा दी.यही नहीं सलमान ने हिना के मैथ्स का भी मजाक उड़ाया और फिर उन्होंने घरवालों से जनरल नॉलेज के कुछ सवाल भी पूछे. उन्होंने जब पूछा कि मिताली राज कौन है? तो घरवालों में सिर्फ प्रियांक ने इसका जवाब दिया.इसके बाद बारी थी एलिमिनेशन की. इस हफ्ते घर से बाहर होने के लिए नॉमिनेट हुए थे लव और प्रियांक. सलमान ने बता दिया कि प्रियांक को सबसे कम वोट मिले हैं.प्रियांक  के जाने से हमेशा की तरह विकास काफी इमोशनल नजर आए. प्रियांक ने जाने से पहले कहा कि वो बहुत खुश होकर घर से जा रहे हैं और उन्हें किसी चीज का दुख नहीं है. आखिर में लव प्रियांक और हिना तीनों एक साथ अपनी दोस्ती के दिनों को याद करते नजर आए.वहीं लव इस बात पर हैरान थे कि वो फिर से बच गए. हालांकि इस बात पर कहीं न कहीं सभी घरवालों को हैरानी थी.इसके बाद हुई लाइव वोटिंग. इसमें जनता को चुनना था सबसे बड़ा एंटरटेनर. हालांकि इस बीच बिग बॉस ने खुद कहा कि बिग बॉस का ये सीजन इतिहास के सबसे एंटरटेनिंग सदस्यों के साथ गुजर रहा है.इसके बाद बिग बॉस ने शिल्पा और हिना को गाना गाने की चुनौती दी. जिसकी सिंगिंग अच्छी होगी, उसे ही दर्शकों को लाइव वोटिंग करके जिताना था. इस कार्य की चुनौती ये थी कि गाना गाने वाले सदस्य पर बाकी घरवालों को स्माइली बॉल फेंकनी थीं.पहले मुकाबले में आईं हिना. हिना ने 'दम लगा के हईशा' फिल्म से मोह मोह के धागे गाया. उन्हें 65 प्रतिशत वोट मिले. वहीं शिल्पा ने हाउसफुल फिल्म का अपनी तो जैसे कैसे कट जाएगी आपका क्या होगा जनाबे आली गाया. उन्हें जनता ने 77 प्रतिशत वोट दिए और वो लाइव वोटिंग में जीत गईं.

1:27 pm | Posted in , , , , , | Read More »

मां के निधन के बारे में सुनकर दुबई में रह रहे भारतीय की मौत

केरल में अपनी मां के निधन के बारे में सुनकर हार्ट अटैक आने से संयुक्त अरब अमीरात के उम्म अल क्वैन सिटी में रहने वाले एक भारतीय की मौत हो गयी.‘खलीज टाइम्स’ के मुताबिक 21 दिसंबर को केरल के कोल्लम जिले के रहने वाले अनिल कुमार गोपनीनाथन को उनकी मां कौशल्या की मौत के बारे में बताया गया.अगले दिन वह अपने कमरे में अचेत पाए गए और उनके दोस्तों ने उन्हें एक अस्पताल पहुंचाया लेकिन उन्हें नहीं बचाया जा सका. गोपनीनाथन शहर के एक टेलरिंग शॉप में काम करते थे.खबर के अनुसार मौत की खबर सुनकर मृतक का भाई संतोष दुबई से अपने घर लौट गया था. गोपीनाथन अगले दिन भारत लौटने वाले थे लेकिन हृदयाघात से उनका निधन हो गया .अधिकारियों के मुताबिक दस्तावेज तैयार होने में देरी के कारण गोपीनाथन के शव को शनिवार रात भारत में उनके पैतृक गांव परिपल्ली भेजा जा रहा है.

1:26 pm | Posted in , , , , , | Read More »

पाकिस्तान: जेल में 9 साल सजा काटने के बाद व्यक्ति ईशनिंदा के आरोप से बरी

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने नौ साल से अधिक समय जेल की सजा काट चुके एक व्यक्ति को ईशनिंदा के आरोप से बरी कर दिया है. यह जानकारी शनिवार को यहां अधिकारियों ने दी.58 साल के मोहम्मद मांशा को पुलिस ने कथित रूप से कुरान के पन्ने का अनादर करने के लिए पंजाब प्रांत के बहावलनगर जिले के सादिकगंज से सितम्बर 2008 में गिरफ्तार किया था.मांशा के खिलाफ पाकिस्तान दंड संहिता की धारा 295 बी के तहत आरोप लगाया गया था और 2009 में उसे एक जिला एवं सत्र अदालत द्वारा आजीवन कारावास की सजा सुनायी गई थी. सजा को लाहौर उच्च न्यायालय ने भी बरकरार रखा था.दोषी ने 2014 में सुप्रीम कोर्ट में अपील की और अदालत ने कल अपना फैसला सुनाया.

1:24 pm | Posted in , , , , , | Read More »

नेपाल ने माउंट एवरेस्ट पर एकल पर्वतारोहण पर लगाई रोक

नेपाल ने दुर्घटना कम करने और पर्वतारोहण को सुरक्षित बनाने के उद्देश्य से माउंट एवरेस्ट समेत अपने सभी पहाड़ों पर एकल पर्वतारोहण पर रोक लगा दी है.नेपाली कैबिनेट ने गुरुवार रात को हुई एक बैठक में पर्वतारोहण नियमों में बदलाव किया है. नेपाल पर्यटन बोर्ड के अधिकारी ने बताया, "पर्वतारोहण सुरक्षित बनाने और नेपाल के पर्वतों पर मौत की घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए नियमों में बदलाव किया गया है. इस सत्र में पर्वतारोहण की कोशिश कर रहे छह पर्वतारोहियों की मौत हो गई, जिसमें 85 वर्षीय मिन बहादुर शेरचान भी शामिल थे. वह एवरेस्ट पर चढ़ाई करने वाले सबसे अधिक उम्र के पर्वतारोही बनना चाहते थे."रपट के अनुसार, इस वर्ष रिकार्ड संख्या में पर्वतारोहियों ने एवरेस्ट फतह करने की कोशिश की.विश्व प्रसिद्ध स्विस पर्वतारोही उली स्टेक अपनी एकल एवरेस्ट यात्रा के दौरान मारे गए. उन्हें 'स्विस मशीन' के नाम से भी जाना जाता था.अधिकारियों के अनुसार, नए नियमों के तहत विदेशी पर्वतारोहियों को अपने साथ एक गाइड रखना पड़ेगा, जिससे नेपाल के पर्वत गाइडों के लिए नौकरी के नए अवसर भी पैदा होंगे.काठमांडू पोस्ट की रपट के अनुसार, 1953 में माउंट एवरेस्ट को दुनिया की सबसे ऊंची चोटी घोषित किए जाने के बाद इसपर चढ़ाई की कोशिश में करीब 300 लोग मारे जा चुके हैं. ऐसा अनुमान है कि पर्वत में अभी भी कम से कम 200 शव दबे हुए हैं.

1:23 pm | Posted in , , , , , | Read More »

भारतीय मूल के 33 लोगों को सम्मानित करेंगी ब्रिटेन की महारानी

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ नए साल में 33 भारतीय मूल के लोगों को सम्मानित करेंगी. इन लोगों को ब्रिटेन को दी गई उनकी सेवाओं को मान्यता देते हुए सम्मानित करने का फैसला किया गया है.साल 2018 में ब्रिटेन की महारानी द्वारा बकिंघम पैलेस में आयोजित होने वाले एक समारोह में इन लोगों को सम्मानित किया जाएगा. समारोह में ब्रिटिश रॉयल परिवार के सदस्य भी मौजूद रहेंगे.यूनिवर्सिटी ऑफ यॉर्क में प्रोफेसर और इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप की अध्यक्ष प्रोफेसर प्रतिभा लक्ष्मण गई को रसायन विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में उनकी सेवाओं के लिये ‘डेमहुड’ से सम्मानित करने का फैसला किया गया है. उन्हें एक ऐसा माइक्रोस्कोप तैयार करने का श्रेय है जिसमें परमाण्विक स्तर पर रासायनिक प्रतिक्रियाओं को देखने की क्षमता है.सूची में शामिल अन्य भारतीय मूल के लोगों में नौ लोगों को ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एंपायर, 16 लोगों को मेंबर्स ऑफ द ब्रिटिश एंपायर और सात को ब्रिटिश एंपायर मेडल से सम्मानित करने का फैसला किया गया है.सम्मानित किए जाने वाले लोगों की सूची में जरनैल सिंह अठवाल, चरनजीत सिंह बौंट्रा, रंजीत लाल धीर, रिलेश कुमार जडेजा, ओमकार दीप सिंह भाटिया, बॉबी गुरभेज सिंह देव, गिल्लियां ढिल्लों, अतुल कुमार भोगीलाल पटेल, मुबीन यूनुस पटेल, गुरमीत सिंह रंधावा, श्यामलाल कांति सेन गुप्ता, प्रोफेसर विकास सागर शाह आदि शामिल हैं.

1:22 pm | Posted in , , , , , | Read More »

फेसबुक ने नफरत भरे संदेश हटाने में गलतियों के लिए मांगी माफी

सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक की ओर से पोस्ट किए गए नफरत भरे संदेशों को हटाने में कोताही बरतने का मामला सामने आने के बाद फेसबुक ने माफी मांगी है.अमेरिका की गैर लाभकारी संस्था प्रोपब्लिका की तरफ से इस हफ्ते की गई जांच से पता चला है कि फेसबुक ने समीक्षा के बाद भी एक ऐसी तस्वीर को मंजूरी दे दी, जिसमें एक लाश दिख रही और नफरत भरा संदेश लिखा हुआ था. हालांकि इन्हें अब हटा दिया गया है.प्रोपब्लिका ने 900 पोस्ट्स की समीक्षा के बाद पाया कि फेसबुक के सामग्री समीक्षा करने वाले एक जैसी सामग्रियां होने के बावजूद उनके प्रति अलग-अलग रवैया अपनाते हैं और हमेशा कंपनी के दिशा-निर्देशों के मुताबिक भी काम नहीं करते.प्रोपब्लिका ने फेसबुक को 49 आइटमों के नमूने भेजकर उससे उस पर सफाई मांगी.फेसबुक ने अपनी गलती स्वीकार करते हुए कहा कि उससे सेंसर करने में गलती हो गई. इनमें से ज्यादातर नफरती संदेश थे, जिन्हें हटाने में फेसबुक नाकाम रहा.फेसबुक के उपाध्यक्ष जस्टिन ओसोफ्स्की के हवाले से प्रोपब्लिका ने कहा, "हम अपनी गलतियों के लिए माफी मांगते हैं. हमें और अच्छा करना चाहिए."

1:21 pm | Posted in , , , , , | Read More »

नए साल में 'पॉजीटिव इंडिया' से 'प्रोग्रेसिव इंडिया' की ओर बढ़ाएं कदम: PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल के आखिरी दिन 31 दिसंबर को देशवासियों से 'मन की बात' की. पीएम मोदी की 'मन की बात' का यह 39वां एपिसोड था. पीएम ने 'मन की बात' में देशवासियों को नए साल की शुभकामनाएं दी हैं. उन्होंने न्यू इंडिया का जिक्र करते हुए कहा कि देशवासी पॉजीटिव इंडिया से प्रोग्रेसिव इंडिया की ओर कदम बढ़ाएं. खुद आगे बढ़ें और देश को भी आगे बढ़ाएं.पीएम ने नए साल में युवाओं से खुद को वोटर के रूप में रजिस्‍टर कराने की अपील की. उन्होंने कहा, 'मेरे लिए 1 जनवरी विशेष दिन है. जो लोग वर्ष 2000 या उसके बाद जन्‍मे हैं, वे 1 जनवरी 2018 से वोटर बनना शुरू हो जाएंगे. भारतीय लोकतंत्र न्‍यू इंडिया वोटर्स का स्‍वागत करता है.' मोदी ने कहा, 'वोट की शक्ति, लोकतंत्र में सबसे बड़ी शक्ति है. लाखों लोगों के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाने के लिए ‘वोट’ सबसे प्रभावी साधन है.'
सकारात्मक सोच पर दिया जोर
मोदी ने कहा कि सकारात्मकता और उत्साह से भरा व्यक्ति कुछ भी कर सकता है. कोई भी चुनौती स्वीकार कर उससे जीत सकता है. खुद में सकारात्मकता लाएं. प्रधानमंत्री ने कहा कि कुछ घंटों बाद वक्‍त बदल जाएगा, लेकिन हमारी बातों का सिलसिला यूं ही जारी रहेगा. हम सकारात्मक बातें करेंगे.
मोदी ने बताया न्यू इंडिया का मतलब
न्यू इंडिया पर पीएम मोदी ने कहा कि जब हम नए भारत की बात करते हैं, तो इसका मतलब है ऐसा भारत, जो जातिवाद, संप्रदायवाद, आतंकवाद और भ्रष्टाचार से मुक्त हो. गंदगी और गरीबी से मुक्त हो. सभी के लिए समान अवसर हो. एक ऐसा भारत जहां शांति, सद्भावना और एकता हो.
मोदी ने कहा कि कई लोग हैं जो अपने-अपने स्तर पर सकारात्मक कार्य कर रहे हैं. इससे उनकी जिंदगी में बदलाव आ रहा है. यही तो न्यू इंडिया है. जिसका हम सब मिलकर निर्माण कर रहे हैं.
न्यू इंडिया पर युवा करें मंथन
मोदी ने कहा-क्या हम हर जिले में एक मॉक पार्लियामेंट बना सकते हैं. जहां, 18 से 25 साल के युवा मिल बैठ कर न्यू इंडिया पर मंथन करें. नए रास्ते खोजें. योजनाएं बनाएं कि कैसे हम हमारे संकल्पों को 2022 से पहले सिद्ध करेंगे.
युवाओं के लिए पैदा हो रहे हैं नए अवसर
मोदी ने युवाओं के लिए कहा- 'आज युवाओं के लिए नए अवसर पैदा हुए हैं. स्किल डेवलपमेंट से लेकर इनोवेशन और एंटरप्रेन्योरशिप में हमारे यहां युवा आगे आ रहे हैं और सफल भी हो रहे हैं. मैं चाहूंगा कि कोई ऐसी व्यवस्था खड़ी की जाए, ताकि इन सारे अवसरों की जानकारी इन युवाओं को एक साथ एक जगह पर मिल सके.'
जम्मू-कश्मीर की अंजुम बशीर का किया जिक्र
पीएम मोदी ने जम्मू-कश्मीर की अंजुम बशीर खान खट्टक का जिक्र किया. अंजुम ने विपरीत परिस्थितियों से हार न मानते हुए अपनी सकारात्मक सोच की बदौलत कश्मीर एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस यानी KAS एग्जाम पास किया है.
मुस्लिम महिलाओं के लिए बदले हज के नियम
मुस्लिम महिलाओं की हज यात्रा का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि हमारी सरकार ने हज यात्रा के दौरान किसी मुस्लिम महिला के अपने पुरुष अभिभावक के बगैर जाने की पाबंदी से 'महरम' कहा जाता है, उसे संज्ञान में लिया है. आजादी के 70 साल बाद भी यह भेदभाव कायम था. अल्पसंख्यक मंत्रालय ने अब इस पाबंदी को हटा दिया है
.
गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि होंगे आसियान के सभी नेता
मोदी ने कहा कि 26 जनवरी 2018 का दिन खास तौर पर याद किया जाएगा. क्योंकि, गणतंत्र दिवस समारोह के लिए आसियान के सभी 10 देशों के नेता मुख्य अतिथि के तौर पर भारत आ रहे हैं. ऐसा भारत के इतिहास में पहले कभी नहीं हुआ था. यह हम भारतीयों के लिए गर्व की बात है.
स्वच्छता सर्वे में सहयोग की अपील
पीएम ने कहा कि 4 जनवरी से 10 जनवरी तक स्वच्छता सर्वे होने वाले हैं. अपनी गली, मोहल्ले और शहर को साफ-सुथरा रखने में अपना अमूल्य सहयोग दें.
मोदी ने एक बार फिर देशवासियों को नए साल की शुभकामनाएं दी और कहा कि आप सब नए साल में नए उत्साह और ऊर्जा के साथ प्रवेश करें.
बता दें कि पीएम मोदी की 'मन की बात' का प्रसारण ऑल इंडिया रोडियो, दूरदर्शन और पीएम मोदी मोबाइल ऐप पर किया गया. इसके अलावा आकाशवाणी के क्षेत्रीय भाषाओं में भी 'मन की बात' का प्रसारण हुआ.

1:19 pm | Posted in , , , , | Read More »

Love story: इंटरव्यू लेने आई उस लड़की पर दिल हार बैठे थे रजनीकांत

जब कॉलेज की उस लड़की ने इंटरव्यू लेने के लिए अनुरोध भेजा तो रजनीकांत ने कई बार आनाकानी की..जब तैयार हुए तो वो लड़की इंटरव्यू लेने आई..वह उसे देखते ही रह गए..वो रजनीकांत जिसके ऊपर लड़कियां जान छिड़कतीं थीं, वो सवालों के जवाब देते हुए उस लड़की की ओर आकर्षित होता जा रहा था. ये अजीब सी स्थिति थी. उन्हें लगने लगा कि यही वो लड़की है, जिसकी उनको तलाश थी. इंटरव्यू खत्म होते होते उन्होंने आखिरकार उसके सामने शादी का प्रस्ताव रख ही दिया. लड़की हैरान. शर्माई. फिर ये कहते हुए चली गई कि ये फैसला तो उसके पैरेंट्स ही करेंगे. इसके बाद लार्जर देन लाइफ और ब्लाक बस्टर हीरो अजीब नर्वसनेस का शिकार हो गया.80 का दशक आते आते रजनीकांत दक्षिण भारत की फिल्मों में ऐसा औरा गढ़ चुके थे कि माना जाने लगा था कि वह मानव नहीं बल्कि महामानव हैं. उनकी फिल्में सुपर हिट हो रही थीं. बॉक्स आफिस पर रिकार्ड तोड़ रही थीं, अब तक दो बार उनका दिल टूट चुका था, लेकिन ये तब की बात है जबकि वह बेंगलुरु में बस कंडक्टर हुआ करते थे. चेन्नई के सिनेमा में हीरो के रूप में सफल होने के बाद तो हीरोइनें उनपर कुर्बान होने लगी थीं. लेकिन रजनी का दिल आया तो एक लड़की पर, जिससे वो जिंदगी में पहली बार मिले थे.हालांकि शादी के बाद साउथ के इस ब्लाकबस्टर सुपरस्टार के अफेयर के किस्से कई हीरोइनों के साथ भी मशहूर हुए. उसमें सबसे अधिक चर्चा चली 'सेक्स बम' कही जाने वाली सिल्क स्मिता के साथ. इससे एकबारगी उनकी शादी ही खतरे में दिखने लगी. ये भी कहा जाता है कि कुछ साल पहले बॉलीवुड में डर्टी पिक्चर के नाम से जो मूवी सिल्क स्मिता पर बनी, उसमें नसीरुद्दीन शाह ने जो रोल किया था, वो मुख्य तौर पर रजनीकांत पर ही आधारित था.
सिल्का स्मिता से अफेयर की चर्चाएं
रजनीकांत पर कई किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं. इन्हीं में एक गायत्री श्रीकांत की है. किताब का नाम है 'द नेम इन रजनीकांत'. किताब में वह लिखती हैं कि किस तरह सिल्क स्मिता से उनकी करीबी की चर्चाएं 80 के दशक के आखिर तक होने लगी थीं. सिल्क स्मिता उन दिनों दक्षिण में रजनीकांत, कमल हासन और चिरंजीवी से कम लोकप्रिय नहीं थीं. वह 80 के दशक में बोल्ड करने वाली बी ग्रेड फिल्मों की सुपरस्टार थीं. कुछ लोग उन्हें साफ्टपोर्न एक्ट्रेस भी कहते थे. 'सदमा' फिल्म के साथ ही वह रातोंरात देशभर में हिट हो गईं.
दोनों की उत्तेजित करने वाली केमिस्ट्री
किताब कहती है, रजनी और स्मिता ने कई फिल्मों में साथ काम किया. उसमें दोनों की केमिस्ट्री ऐसी होती थी कि लोग उफ-उफ कर उठते थे. खासकर गानों में दोनों के डांसिंग स्टेप्स और भाव मुद्राएं उत्तेजित कर देने वाली होती थीं. हालांकि दोनों के अफेयर की कोई पुष्टि नहीं हुई, लेकिन उनके लिंकअप से इनकार नहीं किया जा सकता. रजनीकांत उन दिनों जिस तरह स्मिता के साथ फिल्म करने को प्राथमिकता देते थे, उससे ये चर्चाएं बढ़ती जा रही थीं. कहा तो यहां तक जाता है कि जब ये रिश्ता टूटा तो सिल्क स्मिता बहुत ज्यादा डिस्टर्ब हो गईं.
अमला से भी जुड़ा नाम
इसके अलावा दक्षिण भारत की एक और खूबसूरत अभिनेत्री अमला के साथ रजनीकांत का नाम शिद्दत से जोड़ा गया. यहां तक कहा गया कि ये रोमांस इतना जबरदस्त था कि वह पत्नी से तलाक लेने के बारे में भी सोचने लगे थे. तब बड़े पैमाने पर रजनीकांत के प्रशंसकों ने उन्हें खत लिखकर उन्हें ऐसा करने से मना किया. फिर हालात ऐसे हुए कि उन्होंने ये इरादा खत्म कर दिया. हालांकि रजनी के समर्थक इन चर्चाओं को केवल हवा हवाई बताते हैं.
उस महिला ने उन्हें खारिज कर दिया था
गायत्री श्रीकांत के अनुसार, साउथ फिल्मों के स्टार बनने से पहले रजनीकांत बेंगलुरु में कर्नाटक राज्य परिवहन निगम में बस कंडक्टर थे. तब उनका दिल एक महिला पर आ गया. वह उसके प्रति आकर्षित हुए, लेकिन कुछ ही दिनों बाद ये आकर्षण खत्म हो गया. इसके बाद उनके लिए एक शादी का रिश्ता आया. वह जब लड़की देखने गए तो उसने उन्हें देखते ही इसलिए खारिज कर दिया कि वह डार्क स्किन वाले और ठग की तरह दिखते थे. माना जाता है कि रजनी ने तभी ठान लिय़ा कि अब तो वह फेयर स्किन वाली किसी लड़की से ही शादी करेंगे.
जिंदगी में नई दस्तक
खैर ये बात आई गई हो गई. इसके बाद उनकी जिंदगी में नाटकीय बदलाव आए और वह टॉलीवुड यानि साउथ फिल्मों के शहंशाह बनते चले गए. उन दिनों वह गोलमाल की तर्ज पर तमिल में बन रही फिल्म थिल्लु मुल्लु में काम कर रहे थे. फिल्म बना रहे थे उनके मेंटर के बालाचंद्रन. ये वर्ष 80 की बात है. उसी दौरान चेन्नई के एथिराज कॉलेज की मैगजीन के लिए रजनीकांत का इंटरव्यू प्लान किया गया. इसका जिम्मा् दिया गया इंग्लिश लिटरेचर की छात्रा लता रंगाचारी को.
वह लगातार लता की ओर आकर्षित हो रहे थे
लता को रजनी का समय आसानी से नहीं मिला. इसके लिए उन्हें टॉलीवुड के अपने संपर्कों का इस्तेमाल करना पड़ा. आखिरकार काफी टालमटोल के बाद रजनी ने इंटरव्यू देने का समय दिया. जैसे ही लता उनके कमरे में दाखिल हुईं, वह इस सुंदर चेहरे वाली लड़की को देखते रह गए. जब लता ने सवाल पूछने शुरू किए तो वह उनकी ओर आकर्षित होने लगे. ऐसा उन्हें कभी नहीं हुआ था. ये एकदम अलग तरह की फीलिंग थी. तब रजनी 30 साल के थे और लता 23 की. वह लता के सवालों के जवाब दे तो रहे थे लेकिन केवल ये सोच रहे थे कि यही लड़की है, जो उनकी जीवनसाथी है. पूरे इंटरव्यू के दौरान वह केवल यही सोचते रहे.
इंटरव्यू खत्म होते-होते शादी का प्रस्ताव
इंटरव्यू जब खत्म होने लगा तो उन्हें लगा कि ये अवसर नहीं गंवाना चाहिए. लिहाजा उन्होंने लता के सामने विवाह का प्रस्ताव रख ही दिया. उन्होंने पूछा, क्या वह उनसे शादी करना चाहेंगी. इस प्रपोजल ने लता को हैरान कर दिया. लेकिन वह मुस्कराईं और शर्मीले अंदाज में कहा, इस बारे में तो उन्हें अपने पेरेंट्स से बात करनी होगी. हालांकि इसके बाद उनकी लता से बात होनी शुरू हो गई. रजनी की बेचैनी ये थी कि किस तरह लता के मां-बाप को राजी करें. उन्होंने इसके लिए फिल्म इंडस्ट्री के सीनियर्स की मदद ली. इस पूरी प्रक्रिया के दौरान वह बहुत नर्वस रहे कि पता नहीं पेरेंट्स् अनुमति देंगे या नहीं. जब लता के पेरेंट्स की मंजूरी मिली तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा.
तिरुपति के बालाजी मंदिर में शादी
शादी 26 फरवरी 1981 में तिरुपति में भगवान बालाजी के मंदिर में हुई. शादी के तीन सालों के भीतर ही उनकी दो बेटियां हुईं. शादी के बाद रजनी के सितारे और चढ़ते चले गए. उनका कद इतना बढ़ गया कि उनकी फिल्में देखने वालों को अब लगता है कि रजनीकांत जैसे माचो के लिए कुछ भी संभव है. वह एक मुक्के से लाखों विलेन को मार सकते हैं. दुनिया का कोई ऐसा काम नहीं, जो रजनी जैसे इस सुपरस्टार के लिए असंभव हो. हालांकि रजनी अपने वास्तविक जीवन में निहायत साधारण इंसान हैं. अपने समर्थकों की लंबे समय से मांग देखते हुए अब उन्होंने सियासत में पार्टी बनाकर कूदने की जब घोषणा कर दी है तो ये भी तय है कि वह तमिलनाडु की राजनीति में वाकई बदलाव लाने वाले साबित हो सकते हैं.

1:17 pm | Posted in , , , , | Read More »

दिल्ली में घने कोहरे के कारण 90 से ज्यादा विमानों की उड़ान सेवाएं प्रभावित

दिल्ली में इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर घने कोहरे के कारण आज सुबह 90 से ज्यादा विमानों की सेवाएं प्रभावित हुईं. घने कोहरे के कारण विजिबिलिटी कम होकर 50 मीटर रह गई थी.एयरपोर्ट की वेबसाइट पर उपलब्ध विमानों से संबंधित जानकारी के अनुसार, 54 घरेलू विमानों की उड़ानों में देरी हुई और 17 विमानों का रूट बदलकर उन्हें अन्य एयरपोर्ट भेजा गया. घने कोहरे के कारण 11 अंतरराष्ट्रीय विमानों की उड़ान सेवाओं में देरी हुई और आठ विमानों का रूट बदला गया.सूचना के अनुसार अब तक चार विमानों की उड़ान रद्द की गई हैं. जिनमें तीन घरेलू एवं एक अंतरराष्ट्रीय विमान शामिल हैं.दिल्ली क्षेत्र एवं आईजीआई एयरपोर्ट के लिए भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के निदेशक आरके जेनामनी ने कहा, "सुबह साढ़े पांच बजे रनवे पर विजिबिलिटी 50-75 मीटर के बीच थी. इस साल कोहरे की यह अब तक की सबसे खराब स्थिति अनुभव की गई है."दिल्ली एयरपोर्ट के पास कम विजिबिलिटी में भी विमानों के उतरने के लिए एडवांस टेक्नोलॉजी हैं और इस कारण 50 मीटर विजिबिलिटी में भी विमानों की लैंडिंग संभव हो पाती है. हालांकि विमानों को उड़ान भरने के लिये 125 मीटर विजिबिलिटी की ज़रूरत होती है.

1:15 pm | Posted in , , , , | Read More »

बिना 'महरम' हज यात्रा कर सकती हैं मुस्लिम महिलाएं: मोदी

सरकार ने मुस्लिम महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए कानून में बदलाव लाते हुए वार्षिक हज यात्रा के लिए महिलाओं को बिना किसी पुरुष गार्जियन के यात्रा करने की अनुमति दे दी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को यह कहा.मोदी ने अपने रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' के 2017 के अंतिम संस्करण में रविवार को कहा, "मैंने देखा है कि अगर कोई मुस्लिम महिला हज यात्रा के लिए जाना चाहती है तो वह बिना 'महरम' (एक पुरुष संरक्षक) के नहीं जा सकती."उन्होंने कहा, "और जब मैंने इस बारे में पता किया तो मुझे पता चला कि वह हम लोग ही हैं, जिन्होंने महिलाओं के अकेले हज पर जाने पर रोक लगा रखी है. इस नियम का कई इस्लामिक देशों में अनुपालन नहीं किया जाता."मोदी ने कहा कि अल्पसंख्यक मंत्रालय ने यह प्रतिबंध हटा लिया है और अब मुस्लिम महिलाओं को बिना किसी पुरुष संरक्षक के हज यात्रा करने की अनुमति होगी.प्रधानमंत्री ने कहा, "अब तक, 1,300 महिलाएं बिना महरम के हज यात्रा करने के लिए आवेदन कर चुकी हैं." उन्होंने कहा कि महिलाओं को पुरुषों की तरह समान अवसर मिलने चाहिए.

1:13 pm | Posted in , , , , | Read More »

मकर राशि वालों के लिए कोई बड़ा फैसला लेने के लिहाज से दिन ठीक नहीं

मेष- आज चंद्रमा आपकी राशि से दूसरे भाव में रहेगा. आज का दिन आपके लिए अहम भी है और थोड़ा नाजुक भी. आपको अपने तन और मन में भरी सुस्ती से आगे निकलना होगा. सुबह आपको सक्रिय होने में रोजाना से थोड़ा ज्यादा समय लग सकता है. दिन की नजाकत इस बात में है कि आज आपको अपने कई कामों के लिए सक्रियता दिखानी होगी, लेकिन साथ ही धैर्य भी रखना होगा. अपना आत्मविश्वास बनाए रखें, थोड़ा प्रेरित महसूस करें. एक बार जब आप सक्रिय हो जाएंगे, तो आप बहुत फुर्ती और दक्षता से काम करेंगे. लेकिन आप ज्यादा ही जोश में भी आ सकते हैं. थोड़ा सावधान रहें. घर –परिवार के कामों में भी आपको समय देना होगा. आज घर पर मेहमान आ सकते हैं. अगर आप नौकरी की तलाश में हैं, तो आज आप इस दिशा में पहल कर सकते हैं, समय पक्ष में है. वाणी भाव के चंद्रमा का संकेत यह है कि आज आप किसी से भी कोई भी बात थोड़ा सोचसमझकर करें. बिना सोचे समझे बोलेंगे, तो कोई विवाद पैदा हो जाएगा. दूसरों की बातें भी ध्यान से सुनें. इसी प्रकार बिना सोचे-समझे किसी निर्णय पर भी न पहुंचें. मन में आते नकारात्मक विचारों को काबू में रखें.

वृषभ- आपके घर परिवार, व्यक्तिगत और कामकाजी जीवन जुड़ी समस्याएं आज सुलझ सकती हैं. चंद्रमा आज आपकी ही राशि में है लेकिन आपका राशिस्वामी न केवल आठवें भाव में है, बल्कि पूरी तरह अस्त भी चल रहा है. आज आप को कामकाज के सिलसिले में यात्रा करनी हो सकती है. आज आप बातचीत करते समय ज्यादा ही तैश में आ सकते हैं, संतुलित और सावधान रहें. अनुशासित ढंग से व्यवहार करं और किसी काम के न बनने पर हताश न हों. आज आप अपनी संतान या किन्हीं और बच्चों और रिश्तेदारों के कारण थोड़े परेशान हो सकते हैं, जो आपके कामकाज और भागदौड़ भरी दिनचर्या में न केवल दखल देते रहेंगे, बल्कि आपके लिए परेशानियां भी पैदा करते रहेंगे. परिवार में भी किचकिच मची रहेगी. शाम को माहौल थोड़ा शांत होगा. आज आपकी अपने नियमित मित्रों से भी मुलाकात होगी और अगर आप किसी सामाजिक कार्यक्रम में शामिल होते हैं, तो वहां आपके परिचय और मेलजोल के दायरे में और भी कई लोग शामिल हो जाएंगे. हालांकि उस कार्यक्रम में शामिल होने को लेकर आपके मन में थोड़ी हिचकिचाहट रह सकती है. हो सकता है कि आप पैसों से जुड़े कारणों से संकोच कर रहे हों. आपकी पैसों की स्थिति सुलझ जाएगी.

मिथुन- आज आपके सामने काम कम और भागदौड़ ज्यादा वाली स्थिति है. फिर भी मित्रों के साथ के बूते आपका दिन आसानी से और हंसी-खुशी बीत जाएगा. आपको आज अपनी कुछ सुख-सुविधाओं का त्याग करना होगा. लेकिन आप सहज बने रहें, आपके लिए वही हितकारी होगा. कई नए लोगों से मुलाकात होगी, जिनके साथ आप कई तरह की बातें करते रहेंगे. इनमें से कोई एक व्यक्ति आपको बहुत आकर्षक प्रतीत होगा, लेकिन आप अपने मन में पैदा होने वाले विचारों को नियंत्रण में रखें. आज आपने बहुत सारे काम सोच रखे हैं, या उनका वादा किया हुआ है, और इस कारण आपको दिन भर इधर स उधर भागते रहना पड़ सकता है. आज लोगों के साथ संवाद में, कागजी काम में और यात्रा में आपको कुछ न कुछ परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. आज आपके सामने कोई ऐसा बिल्कुल नए किस्म का प्रस्ताव आ सकता है, जो आपके लिए पैसों के लिहाज से ज्यादा लाभदायक हो. परिवार के मामलों पर समय देना होगा. आज आप किसी पर देखभाल कर ही भरोसा करें, धोखा हो सकता है.

कर्क- आज आप अपने कार्य निपटाने के लिए बहुत सशक्त स्थिति में हैं. तमाम हालात आपके पक्ष में हैं और आपमें ऊर्जा भी बहुत है. आज आपके कार्यक्षेत्र में आप बहुत उन्नति करेंगे, भले ही आपके दफ्तर की छुट्टी हो. हो सकता है, कोई काम आप आज भी जाकर करें, या पहले ही वह काम घर ले आए हों. बस पैसों को लेकर ज्यादा अधीर न हों. धन से जुड़े मामले आपको आज भी परेशान करते रहेंगे. आपका कोई पुराना और रूठा मित्र आज स्वयं आपके पास लौट आएगा और अपनी पुरानी गलती पर खेद भी जताएगा. आज आप अपने मन में शांति और धैर्य बनाए रखें, अकारण उग्र न हों. क्रोध का अतिरेक या नकारात्मक चिंतन आपके काम बिगाड़ सकता है. शायद आपके हाल ही कोई गलती हुई है, या कोई ऐसी बात आपने किसी से कह दी है, जो आपको नहीं कहना चाहिए थी. अब आपके मन में उसके परिणामों को लेकर चिंता बनी रहेगी. लेकिन अपनी इस चिंता को, और पूरे प्रकरण को ही आप अपने मन में ही बंद रखें. किसी से उसका जिक्र न करें. आप मन हल्का करने के लिए उसे किसी से कहना चाहेंगे, लेकिन इससे बात और बढ़ जाएगी. मन में घूमते सवालों का कोई टिकाऊ उत्तर शायद आज न मिल सके. परिवार की चिंता भी अभी बनी रहेगी. हालांकि परिवार के लोग अपनी ओर से आपके लिए मददगार रहेंगे.

सिंह- आज आपको यात्रा भी करनी हो सकती है और कोई महत्वपूर्ण कार्य भी निपटाना हो सकता है. व्यस्तता और हर काम की महत्ता बहुत ज्यादा है, लेकिन आप जो भी कदम उठाएं, बहुत ध्यान से और सोच समझ कर उठाएं. भाग्य के भरोसे कोई बड़ा फैसला न लें. आज भाग्य के बजाए अपने कर्म पर विश्वास रखना आपके लिए अच्छा रहेगा. आज आपके कार्यक्षेत्र में आपको कोई नए काम की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है. दफ्तर में किसी विषय पर गहन विचार- होगा, इस बैठक में आपकी अध्ययनशीलता की बहुत प्रशंसा की जाएगी. स्थिति यह हो जाएगी कि हरेक जटिल सवाल के उत्तर के लिए आपकी ओर देखा जाएगा. आप भी स्वयं को मिल रहे इस महत्व से बहुत गद्गद् रहेंगे. आपके मन मेंरोमांस और कामुकता के इरादे हावी रहेंगे, और अगर ऐसे में किसी सामाजिक कार्यक्रम में शामिल होने का अवसर मिला, तो वहां आप किसी व्यक्ति के प्रति गहरा आकर्षण महसूस करेंगे. लेकिन पहल करने की कोशिश न करें, अपने सम्मान के प्रति सचेत रहें. आज आपको अपनी झुंझलाहट और अपने गुस्से पर नियंत्रण रखना होगा. दूरस्थान से शुभ समाचार मिलेगा.

कन्या- आज आपको साधारण सफलता पाने के लिए भी थोड़ी ज्यादा मेहनत करनी होगी. दिन भर तमाम चुनौतियां सामने आती रहेंगी. आप जितनी समझदारी से काम लेंगे, उतने ही सफल रह सकेंगे. पूरा दिन आपको सावधानी से बिताना होगा. नकारात्मक भावनाओं पर और थोड़ा स्वयं पर नियंत्रण रखें. आपका राशिस्वामी और कर्मभाव का स्वामी वक्री चल रहा है. अभी कुछ दिन आप अपने दफ्तर को लेकर भी अतिरिक्त सावधान रहें. अपने कार्यक्षेत्र में आप अपनी एकाग्रता बनाए रखें. नौकरी में आज काम ज्यादा रहेगा. करिअर में प्रगति के कुछ ठोस अवसर आज मिल सकते हैं. आप उनका लाभ जरूर उठाएं, और उस दौरान किसी भी घटना से स्वयं को विचलित न होने दें. शुक्र अस्त है, आपके निजी और पारिवारिक जीवन में समस्याएं बढ़ सकती हैं. परिवार की आवश्यकताओं पर ध्यान दें. पैसों की चिंता भी बनी रहेगी. आज आपको चाहने पर भी किसी से मदद शायद न मिल सके, हालांकि सारे लोग आपकी ओर ध्यान लगाए रखेंगे. शाम को किसी सामाजिक कार्यक्रम में आपका आकर्षण सबसे अधिक होगा.

तुला- आज का दिन आपके लिए सुस्ती भरा रहेगा. आज आप कोई बड़ा निर्णय न लें, और जोखिम वाला कोई काम न करें. आज आपके सामने कई चुनौतीपूर्ण स्थितियां बनेंगी. आप किसी भी स्थिति को लेकर ज्यादा भावुक न हों. अपनी भावनाओं को, वाणी को और अपने आपको नियंत्रण में रखें. आज किसी रिश्तेदार के किसी झंझट में आपका काफी समय लगेगा. आज चंद्रमा आपकी राशि से अष्टम रहेगा. आज स्वास्थ्य भी ढीला रहेगा और मूड भी अनमना सा बना रहेगा. मन में कोई अज्ञात भय रह सकता है. आज आप किसी भी विवाद से अपने आपको दूर रखें. अगर आपने समझदारी न बरती, तो अपने लिए समस्या खड़ी कर लेंगे. अगर कोई बात आप तक आती है, तो भी उसका सीधा उत्तर दे दें और उस स्थान से हट जाएं. वक्री बुध आपकी राशि से दूसरे भाव में है. आप कोई काम अति आत्मविश्वास में आकर या दूसरे के उकसावे में आकर अपने हाथ में ले लेंगे, और फिर वही काम पूरा न हो पाने पर परेशान महसूस करेंगे. नौकरी में परिवर्तन करने या प्रमोशन की बात करने का सही समय है. यात्रा संभव है, जो कष्टप्रद रहेगी.

वृश्चिक- दिन रोमांटिक अंदाज में बीतेगा. आपको अपने लगभग हर प्रयास में सफलता मिलेगी. नए लोगों से परिचय होगा, कुछ से मित्रता भी हो सकती है. सारा दिन प्रसन्न लेकिन ज्यादा ही भावुक रहेंगे. राशि में विराजमान अकेला और वक्री बुध आज चंद्रमा के ठीक सामने है. आज आपकी भावनात्मक स्थिति ज्यादा ही संवेदनशील है. आपका एक इरादा यह रहेगा कि आप सारा समय अपने जीवनसाथी के साथ बिताएं, वहीं दूसरी ओर कुछ महत्वपूर्ण कार्य भी निपटाने होंगे, जिनके लिए समय आपके पास ज्यादा नहीं होगा. तीसरे आपको कुछ पारिवारिक दायित्व भी निपटाने होंगे. आपका प्रेमी या जीवनसाथी भी आज मौके-बेमौके पर आपकी आलोचना करता रहेगा. आप आज किसी आलोचना का उत्तर न दें. आज आप अपने विरोधियों से थोड़े सावधान रहें. बिजनेस में आपका जो पार्टनर है, वह आज किसी न किसी बहाने से सारे काम का सारा बोझ आप पर डाल देगा और आप उसका इरादा समझते हुए भी चुपचाप उसका फैसला स्वीकार कर लेंगे. किसी काम में ज्यादा जल्दबाजी न करें, नुक्सान हो सकता है. किसी के साथ पैसों को लेकर विवाद हो सकता है.

धनु- आज आप दिन भर व्यस्त रहेंगे, हालांकि दोपहर के बाद आपको थोड़ा सुस्ताने का भी मौका मिलेगा. आपमें बहुत ऊर्जा रहेगी और आप अपने सभी काम पूरी तरह निपटाने में सफल रहेंगे. आपको अपनी महत्वाकांक्षाओं की पूर्ति होने का अहसास होने लगेगा, और आप उस दिशा में पूरी तरह सक्रिय रहेंगे. किसी जानकार व्यक्ति से मिली आपकी सफलता का मार्ग प्रशस्त कर देगी. आपको अपनी बौद्धिकता, समझदारी और थोड़ी चतुराई के बूते ही सफलता मिलेगी. आज दूसरों की उनके कामों में मदद देनी होगी, हालाकि उनके कारण आपके महत्व के काम प्रभावित न हों, इसकी चिंता आपको करनी होगी. आज आपको अपनी योजनाओं में थोड़ी सावधानी बरतनी होगी. आप जो चाह रहे हैं, उसमें किसी व्यक्ति का कुछ नुकसान संभव है. इसी प्रकार आज कोई व्यक्ति आपको भी अकारण या किसी बहुत छोटी सी बात को लेकर परेशान कर सकता है. आपको दोनों स्थितियों को लेकर थोड़ा सावधान रहना होगा. आज आप कोई भी काम पूरे धैर्य और विनम्रता से ही करें. न्यायालयीन मामलों पर ध्यान दिए रहें. शाम को आपके घर पर पड़ोसियों और रिश्तेदारों का जमघट लगेगा.

मकर- आज आपके लिए कोई नया काम शुरु करने या कोई बड़ा फैसला लेने के लिहाज से दिन ठीक नहीं है. आज चंद्रमा आपकी राशि से पांचवे भाव में है और वक्री बुध राशि आपके लाभ भाव में चल रहा है. आप चाहे इसे व्यवहारिकता कह लें, चाहें स्वार्थपरकता कह लें- आज आपका पूरा अंदाज स्वयं पर और स्वयं के हितों पर केन्द्रित रहेगा. समझदारी से और संतुलित रहकर काम करेंगे, तो ज्यादा सफल रहेंगे. आज आप अपने जीवनसाथी के साथ मिलकर घर के बजट को संतुलित करने और खर्चों में कटौती करने की योजना बनाएंगे. खर्चों में कटौती करने की बात आपके मन पर इतनी हावी रहेगी कि आप किन्हीं रिश्तेदारों से मिलने जाने से, जो संभवतः आपके ससुराल पक्ष के हैं, सिर्फ इसलिए इनकार कर देंगे कि आने-जाने में काफी खर्च होगा. हालांकि बाद में आप इसी के लिए राजी भी हो जाएंगे. आज लोगों से मेलजोल के कार्यक्रमों के कारण आपको अपने कई सारे महत्वपूर्ण काम टालने पड़ सकते हैं. यह तब होगा, जब आज आप दिन में कई बार अपनी महत्वाकांक्षाओं को लेकर कोई न कोई योजना बनाते रहेंगे. कार्यक्षेत्र से संबंधित आपकी जो भी योजना हो, उसके बारे में मिली जानकारियों की एक बार पुष्टि जरूर कर लें.

कुंभ- आज का दिन आपके थोड़ा सुस्त रहेगा. चंद्रमा आज आपकी राशि से चौथे भाव में है और वक्री बुध आपके कर्मभाव में है. नकारात्मक सोचेंगे, तो परेशानी और बढ़ेगी. आज आप धैर्य से काम लें, किसी पर क्रोध न करें. आप अपने दफ्तर में चल रही खींचतान में तटस्थ बने रहें, उसी में आपका हित है. यह खींचतान अभी कुछ दिन और चलती रहेगी और बिना किसी की हार या जीत के समाप्त हो जाएगी, हालांकि आज आपके बॉस के विरोधी इसमें हावी नजर आएंगे. ऐसी स्थिति में, आज आपको अपने कामकाज में ज्यादा सावधानी बरतनी होगी. आज आपकी परफॉर्मेंस पर आपके विरोधी नजर रखेंगे. आप अपना ध्यान अपने कार्य और अपने दायित्व तक ही सीमित रखें. आपको अपनी महत्वाकांक्षाओं को कम करने की जरूरत नहीं है. उस दिशा में आप हर संभव प्रयास जारी रखें. आज भी कोई आपको नई नौकरी का प्रस्ताव या सुझाव देगा. वास्तव में समय आने पर आप की पदोन्नति होने की पूरी उम्मीद है. आज आप थोड़ा समय अपने परिवार को भी दें.

मीन- आज आप ऐसे फैसले कर लेंगे, जिनका गहरा संबंध आपके करिअर और परिवार की स्थिति से है. आपके ये फैसले बहुत दूरगामी असर डालने वाले साबित होंगे. आपका साहस और आपका इरादा आज बहुत प्रबल रहेगा. वक्री बुध आपके भाग्यस्थान में है. आप अतीत की परेशान करने वाली बातों को भूलकर आगे की ओर देखें, आज का दिन आपको वांछित सफलता दिलाने वाला साबित होगा. आपको थोड़ा समय परिवार की जिम्मेदारियों को देना होगा और थोड़ा समय अपने कामकाज को देना होगा. आप दोनों क्षेत्रों में सफल रहेंगे, हालांकि इसके लिए आपको किसी से मदद लेनी होगी. पारिवारिक परिस्थितियों को लेकर आपको झुंझलाहट भी हो सकती है, आप स्वयं पर नियंत्रण रखें . कोई शुभ समाचार प्राप्त होगा.

 

 

1:12 pm | Posted in , , , , , , | Read More »

नव वर्ष की पूर्व संध्या पर समस्त मनोरंजन कार्यक्रम जीएसटी देने के बाद ही आयोजित होंगे:: जिलाधिकारी

सोनू शर्मा संवाददाता, जिलाधिकारी गौतमबुद्धनगर ब्रजेश नारायण सिंह ने समस्त होटल, क्लब, रेस्टोरेंट ,पार्क एवं अन्य संस्थान जहां पर नव वर्ष की पूर्व संध्या पर सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे वहां पर बिना जिला प्रशासन की अनुमति के कोई भी कार्यक्रम किया जाना अनुमन्य नहीं होगा। इस सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने सम्बन्धित को निर्देश देते हुए कहा है कि नववर्ष के अवसर पर यदि उपरोक्त संस्थाओं में कहीं पर भी नववर्ष की पूर्व संध्या पर कार्यक्रम आयोजित किया जाता है तो उसके सम्बन्ध में जिला प्रशासन के माध्यम से नियम के अनुसार अपनी स्वीकृति प्राप्त की जाए। और सरकार के निर्देशों के अनुपालन में जीएसटी को जमा कराने के उपरांत ही कोई कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। उन्होंने स्पष्ट किया है कि यदि बिना अनुमति एवं बिना जीएसटी जमा किए कोई कार्यक्रम आयोजित होते हुए पाया गया तो सरकार के नियमों के अनुसार सम्बन्धित के विरूद्ध कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

12:57 pm | Posted in , | Read More »

विगत वर्षो की भांति इस वर्ष भी वेटलैंड इंटरनेशनल संस्था के द्वारा जलीय पक्षियों की की जाएगी गणना-डीएफओ

सोनू शर्मा संवाददाता, प्रभागीय वनाधिकारी गौतमबुद्धनगर एचवी गिरीश ने जानकारी देते हुए अवगत कराया है कि प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष में वैटलेण्ड इंटरनेशनल संस्था द्वारा एशिया राष्ट्रों में जलीय पक्षियों की गणना का कार्य कराया जाता है। पूर्व की भांति वन विभाग के साथ मिलकर इस वर्ष 6 जनवरी को औखला पक्षी विहार में तथा 10 जनवरी को सूरजपुर वेटलैंड में सुबह 8 बजे से दोपहर 12 बजे तक पक्षियों की गणना का कार्य कराया जाएगा। उन्होंने इच्छुक समस्त व्यक्तियों एवं स्वयंसेवी संस्थाओं का आव्हान करते हुए कहा है कि जो भी व्यक्ति एवं संस्था स्वेच्छा से गणना प्रक्रिया में भाग लेना चाहते हैं वह इस कार्यक्रम में उपस्थित हो सकते हैं। इस सम्बन्ध में उन्होंने अपने अधिकारियों के नाम एवं मोबाइल नंबर भी जारी किए हैं। जिसमें ईश्वर चंद सिंह क्षेत्रीय वन अधिकारी ओखला पक्षी विहार मोबाइल नंबर 97 180 28930 तथा टीके राय इकोलाँजिस्ट 836 874 8820 है। गणना प्रक्रिया में भाग लेने के इच्छुक व्यक्ति एवं स्वयंसेवी संस्था सम्बन्धित अधिकारियों से अधिकतम जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

5:35 pm | Posted in , | Read More »

जिला प्रशासन के द्वारा 12 और गुंडों पर लगाया गया गैंगस्टर

सोनू शर्मा संवाददाता, जनपद में अपराध नियंत्रण करने के उद्देश्य से जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन के अधिकारियों के द्वारा निरंतर रूप से व्यापक स्तर पर कार्रवाई की जा रही है। इसी श्रंखला में जनपद के 12 और गुंडों पर गेंगस्टर लगाया गया है।जिलाधिकारी बीएन सिंह ने इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए बताया कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक की रिपोर्ट के आधार पर मुनेन्द्र उर्फ मुन्दर पुत्र इन्द्राज निवासी महमूदपुर थाना दनकौर, राहुल उर्फ लाला पुत्र शेर सिंह निवासी ग्राम मकनपुर खादर थाना दनकौर जिला गौतमबुद्धनगर पर गैंगस्टर एक्ट लगाया गया है। इसी प्रकार जनपद 10 भू-माफियाओं पर गैंगस्टर एक्ट लगाया जिसमें रामभूल पुत्र फूलसिंह, कालू यादव पुत्र झगडू यादव, लिटिल यादव पुत्र जगवीर, नितिन यादव पुत्र मिन्टर यादव, अनिल विश्वकर्मा पुत्र डालचन्द, धर्मेन्द्र यादव पुत्र शर्मा यादव, गोलू यादव पुत्र महावीर सिंह, रवि यादव पुत्र महावीर सिंह निवासी गढ़ी चौखण्डी थाना फेस 3 नोएडा, टीटू उर्फ बिट्टू पुत्र शाहमल, जग्गी यादव पुत्र रमेश निवासी बहलोलपुर थाना फेस 3 नोएडा जिला गौतमबुद्धनगर सम्मलित है।जिलाधिकारी ने इस सम्बन्ध में बताया कि जनपद में अपराधियों के विरूद्ध निरंतर रूप से कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने के लिए जिला प्रशासन कटिबद्ध है। अतः भविष्य में यह कार्यवाही प्रस्तावित रहेगी और जो आपराधिक प्रवृत्ति के व्यक्ति हैं उन पर गुंडा एक्ट एवम गैंगस्टर तथा जिला बदर करने की कार्रवाई करने के साथ-साथ अन्य सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी।

4:30 pm | Posted in , | Read More »

जनपद के समस्त सरकारी कार्यालयों, सार्वजनिक उपक्रमों, निगमों, नगर परिषदों एवं शिक्षण संस्थाओं में लगाना होगा डॉ भीमराव अंबेडकर का चित्र

सोनू शर्मा संवाददाता, उत्तर प्रदेश शासन के निर्देशों के अनुपालन में अब जनपद के समस्त सरकारी कार्यालयों, सार्वजनिक उपक्रमों, निगमों नगर पालिका के कार्यालयों एवं शैक्षिक संस्थाओं में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी के चित्र को लगाना शासन ने अनिवार्य कर दिया गया है। लगाए जाने वाले चित्र के नीचे डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी की जन्मतिथि एवं निर्वाण तिथि का भी अंकन करना होगा । इस सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने समस्त सम्बन्धित अधिकारियों एवं सम्बन्धित प्रतिष्ठानों के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा है कि शासन के निर्देश के अनुपालन में समस्त अधिकारी अपने अपने कार्यालयों एवं प्रतिष्ठानों में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी के चित्र को  तत्काल प्रभाव से लगाना सुनिश्चित करेंगे।

4:29 pm | Posted in , | Read More »

ये हैं 50% से ज्यादा का मुनाफा देने वाले म्यूचुअल फंड्स, आप भी उठाएं फायदा

साल 2017 रिटर्न के लिहाज से घरेलू निवेशकों के लिए बेहद शानदार रहा है. जहां एक ओर सेंसेक्स निफ्टी नए शिखर पर पहुंचे. वहीं, इसका फायदा उठाकर घरेलू म्यूचुअल फंड्स ने निवेशकों को 80 फीसदी तक का मुनाफा कराया है.एक्सपर्ट्स सलाह दे रहे हैं कि जिन निवेशकों को शेयर बाजार में निवेश करने से डर लगता है. वह म्यूचुअल फंड्स का फायदा उठाकर अच्छे रिटर्न हासिल कर सकते है. आपको बता दें कि साल 2017 में एसबीआई स्मॉल एंड मिडकैप फंड ने 80 फीसदी, टाटा इंडिया कंज्यूमर फंड ने 75 फीसदी, रिलायंस स्मॉलकैप फंड ने 62 फीसदी का रिटर्न दिया है.
छोटे निवेशकों ने जमकर लगाया पैसा
म्यूचुअल फंड में निवेश छोटे निवेशकों को खूब लुभा रहा है. देश में हर महीने करीब 12 लाख म्यूचुअल फंड खाते खुल रहे हैं. बाजार नियामक सेबी की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक आम निवेशकों की मजबूत भागीदारी के चलते देश में म्यूचुअल फंड खातों (फोलियो) की संख्या मौजूदा वित्त वर्ष के पहले आठ महीने में 95 लाख बढ़ी.रिकॉर्ड स्तर पर पहुंची संख्या
म्यूचुअल फंड खातों की संख्या इस साल नवंबर के आखिर में 6.5 करोड़ रही जो कि अब तक उच्चतम स्तर है. सेबी के आंकड़ों के अनुसार 42 सक्रिय म्यूचुअल फंड कंपनियों के साथ कुल निवेशक खातों की संख्या या फोलियो की संख्या बढ़कर नवंबर के आखिर में 6,49,21,686 हो गई. यह संख्या मार्च के आखिर में 5,53,99,631 थी.

अगले साल शेयर बाजार में दिखेगा बड़ा उतार-चढ़ाव
एसबीआई म्युचुअल फंड के सीआईओ और ईडी नवनीत मुनोत की राय है कि 2018 में कंपनियों के नतीजों में सुधार की उम्मीद है. कंपनियों के नतीजे बेहतर होने पर रिटर्न बढ़ेगा. 2017 के मुकाबले अगले साल ज्यादा उतार-चढ़ाव देखने को मिलेगा.अपने म्यूचुअल फंड्स का मुनाफा चेक जरूर करें
एसकोर्ट सिक्युरिटी के फंड मैनेजर आसिफ इकबाल के कहते है कि अक्सर नए साल में इन्‍वेस्‍टमेंट की सलाह दी जाती है, लेकिन म्‍युचुअल फंड में पहले से इन्‍वेस्‍टमेंट कर रखा है तो नया साल इसके रिव्‍यू के लिए बेहतर है. अगर आपका म्‍युचुअल फंड स्‍कीम्‍स रिटर्न के मामले में टॉप 3 या टॉप 5 में नहीं है तो इसे नए फंड में शिफ्ट करने के बारे में सोचना चाहिए. निवेशकों को हर दो से तीन माह पर एक बार जरूर रिटर्न के हिसाब से अपने निवेश का रिव्‍यू करते रहना चाहिए. इससे अपने निवेश का रिटर्न बढ़ाने में मदद मिलती है.
अब क्या करें निवेश
कोटक म्युचुअल फंड के एमडी और सीईओ नीलेश शाह की राय है कि एमएफ में रिटेल निवेशकों की भागीदारी बढ़ रही है. 2018 में बाजार में लिक्विडिटी में कमी आ सकती है. अगले साल महंगाई और ब्याज दरों में बढ़त भी संभव है. नीलेश शाह का मानना है कि तेजी में पिछड़ चुके अच्छे शेयर अगले साल ज्यादा रिटर्न देंगे. साथ ही उन्होंने सेक्टर की बजाय शेयरों पर ध्यान देकर निवेश की सलाह दी है.रिलायंस कैपिटल के ग्लोबल हेड (इक्विटीज) सुनील सिंघानिया की राय है कि 2018 में इकोनॉमी की हालत बदलेगी. लेकिन अगले साल बहुत ज्यादा रिटर्न की उम्मीद नहीं है.

सुनील सिंघानिया का मानना है कि 2018 में एक्सपोर्ट कंपनियों, टेक्सटाइल और मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर पर फोकस रहेगा. उनकी राय है कि सरकार की तरफ से बड़े कदम उठाने का फायदा बाजार को होगा.

4:26 pm | Posted in , , , , , | Read More »

प्रसाद के बयान से परेशान नहीं हैं पंत, कहा 'मेरा काम रन बनाना'


युवा विकेटकीपर बल्लेबाज़ रिषभ पंत राष्ट्रीय टीम के मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद के उस बयान से परेशान नहीं है जिसमें उन्होंने कहा था कि महेन्द्र सिंह धोनी की जगह लेने में दूसरे विकेटकीपरों को समय लगेगा.
मेरा काम प्रदर्शन करना
मौजूदा रणजी सीज़न में फॉर्म से बाहर होने के बाद भी 20 साल के पंत का भविष्य उज्ज्वल माना जा रहा जैसा की उन्होंने कुछ समय पहले अपने प्रदर्शन में दिखाया था.दिल्ली के इस कप्तान ने कहा कि उनका काम सिर्फ रन बनाना है. विदर्भ के खिलाफ रणजी ट्रॉफी के फाइनल के पहले दिन के खेल के बाद उन्होंने कहा, "मुझे ऐसी बातों से परेशान होने की ज़रूरत नहीं. मैं इसके बारे में नहीं सोचता हूं. मेरा काम प्रदर्शन करना है, ज़्यादा से ज़्यादा रन बनाना है."
धोनी जैसा कोई विकेटकीपर नहीं
प्रसाद ने हाल ही में कहा था कि दो बार विश्व कप का खिताब जीतने वाले धोनी वनडे क्रिकेट में देश के सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर हैं. उन्होंने कहा था, "भारत ही नहीं बल्कि विश्व क्रिकेट में भी कोई ऐसा विकेटकीपर नहीं जो धोनी के प्रदर्शन के आस-पास हो." प्रसाद के बयान से साफ हो गया कि 2019 विश्व कप तक पंत और संजू सैमसन जैसे युवा विकेटकीपरों को टीम में जगह बनाने में मुश्किल होगी.
बात करने के मूड में नहीं थे पंत
पंत इस मुद्दे पर ज़्यादा बातचीत के मूड में नहीं थे और वह रणजी ट्रॉफी में दिल्ली के नेतृत्व के बारे में बात करना चाहते हैं. इस मौके पर दिल्ली की ओर से शतक लगाने वाले ध्रुव शोरे (नाबाद 123) ने अपनी पारी के बारे में कहा, "मेरे लिए क्रीज़ पर बने रहना ज़रूरी था. वहां समय देना ज़रूरी था, इस पिच पर अगर आप समय नहीं देंगे और जल्दी शॉट खेलेंगे तो विकेट गंवा देंगे. मैंने शुरू में समय लिया जिसके बाद
बल्लेबाज़ी आसान हो गई." उन्होंने कहा, "हम और बेहतर कर सकते थे, हमने दो विकेट अतिरिक्त गंवा दिए. लेकिन हम अभी भी पारी को संवार सकते हैं. हमारा निचलाक्रम भी बल्लेबाज़ी कर सकता है.

4:21 pm | Posted in , , , , , , , | Read More »

श्रीलंकाई टीम में सिलेक्शन न होने से भड़के मलिंगा, उठाए ये सवाल

तेज़ गेंदबाज़ लसिथ मलिंगा श्रीलंका क्रिकेट टीम में सिलेक्शन नहीं होने पर भड़क गए. मलिंगा ने कहा कि वह टीम में न चुने जाने की वजह जानना चाहते हैं. मलिंगा को अगले महीने बांग्लादेश दौरे पर जाने वाली संभावित 23 सदस्यीय टीम में शामिल नहीं किया गया. लेकिन नए कोच चंद्रिका हथरुसिंगा के मार्गदर्शन में उन्हें एक ख़ास ट्रेनिंग सेशन के लिए नेट गेंदबाज़ के रूप में बुलाया गया है.क्रिकइंफों ने मलिंगा के हवाले से कहा, 'अगर वे मुझे चुनते हैं तो मैं इसके लिए तैयार हूं. लेकिन मैं यह जानना चाहता हूं कि मुझे राष्ट्रीय टीम में क्यों शामिल नहीं किया गया. आमतौर पर 25-26 साल के खिलाड़ी को आराम की ज़रूरत होती है, क्योंकि उनके अंदर काफी क्रिकेट बचा होता है. लेकिन मेरे जैसे उम्र के खिलाड़ी को आराम देने का कोई मतलब नहीं बनता और मैं इसकी वजह जानना चाहता हूं.'34 वर्षीय मलिंगा ने कहा, 'मैं अब सिर्फ एक-दो साल और क्रिकेट खेल सकता हूं. लेकिन मुझे आराम दिया जाता है, तो मैं क्रिकेट नहीं खेल पाऊंगा.'मलिंगा ने इस साल सितंबर में भारत के खिलाफ हुई ट्वेंटी-20 सीरीज़ के बाद से एक भी अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेला है. उन्हें भारत दौरे पर इस महीने हुई ट्वेंटी-20 सीरीज़ से भी आराम दिया गया था. इसके अलावा उन्हें अगले महीने होने वाले बांग्लादेश दौरे के लिए भी टीम में शामिल नहीं किया गया है.

4:19 pm | Posted in , , , , , , | Read More »

रूसी ओलम्पिक समिति के अध्यक्ष झुकोव ने किया ये बड़ा ऐलान

रूसी ओलम्पिक समिति के अध्यक्ष एलेक्सजेंडर झुकोव ने कहा है कि उनके देश के एथलीट दक्षिण कोरिया के प्योंगचांग में होने वाले 2018 शीतकालीन ओलम्पिक खेलों के उद्घाटन समारोह में हिस्सा लेंगे. झुकोव ने तास समाचार एजेंसी के साथ साक्षात्कार में यह बात कही.झुकोव ने कहा,'रूसी एथलीट शीतकालीन ओलम्पिक खेलों के उद्घाटन समारोह में ओलम्पिक झंडे के नीचे हिस्सा लेंगे.'अंतर्राष्ट्रीय ओलम्पिक समिति (आईओसी) द्वारा निलम्बित किए जाने के बाद रूसी एथलीट तटस्थ खिलाड़ियों के तौर पर शीतकालीन ओलम्पिक में हिस्सा लेंगे. आईओसी ने रूसी खिलाड़ियों के बीच डोपिंग को बढ़ावा देने के कारण रूसी ओलम्पिक समिति को बर्खास्त कर दिया है.23वें शीतकालीन ओलम्पिक खेल 9 से 25 फरवरी तक प्योंगचांग में आयोजित होने हैं.

4:18 pm | Posted in , , , , , , , | Read More »

स्पिनर्स के लिए कब्रगाह है द.अफ्रीकी पिच, क्या दिखेगा अश्विन-जडेजा का कमाल

घरेलू धरती पर नियमित तौर पर टीम का हिस्सा रहने वाले रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शायद ही एक साथ प्लेइंग इलेवन में जगह बनाने का मौका मिले क्योंकि अफ्रीकी महाद्वीप के इस देश में स्पिनरों के प्रदर्शन में लगातार गिरावट आई है और वह ख़राब से बुरा होता गया है.

गिर रहा है स्पिनर्स का ग्राफ
दक्षिण अफ्रीका की टेस्ट क्रिकेट में वापसी के बाद से उसकी सरज़मीं पर अब तक जो 125 टेस्ट मैच खेले गए हैं अगर उनमें स्पिनरों की परफॉर्मेंस पर गौर करें तो साफ हो जाता है कि दक्षिण अफ्रीकी टीम में अदद स्पिनर की कमी के कारण उन्होंने अमूमन तेज़ गेंदबाज़ों के माकूल पिचें ही बनाईं और इसमें दो राय नहीं कि विराट कोहली एंड कंपनी को पांच जनवरी से केपटाउन में शुरू हो रही तीन टेस्ट मैचों की सीरीज़ में तेज़ और उछाल वाले विकेटों से ही रूबरू होना पड़ेगा. दक्षिण अफ्रीका में खेले गए पिछले 125 टेस्ट मैचों में तेज़ गेंदबाज़ों और स्पिनरों के प्रदर्शन का तुलनात्मक अध्ययन करें तो अंतर स्पष्ट नज़र आता है. इन मैचों में तेज़ या मध्यम गति के गेंदबाज़ों ने 75.46 प्रतिशत गेंदबाज़ी (29,385 ओवर) की और 81 प्रतिशत विकेट अपने नाम लिखवाये. इस बीच अधिकतर टीमों ने स्पिनरों को मारक हथियार के तौर पर नहीं बल्कि तेज़ गेंदबाज़ों को आराम देने या ओवर गति तेज़ करने की खातिर इस्तेमाल किया. यही वजह है कि भले ही 24.54 प्रतिशत (9556 ओवर) गेंदबाज़ी की लेकिन उन्हें 19 प्रतिशत ही विकेट मिले.अफ्रीका पर चला था कुंबले का जादू

पिछले दस और पांच सालों के दौरान भी यह स्थिति नहीं बदली और इस बीच स्पिनरों ने तेज़ गेंदबाज़ों के दो अन्य गढ़ इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में भी दक्षिण अफ्रीका की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया. पिछले दस सालों में दक्षिण अफ्रीका में स्पिनरों को गेंदबाज़ों को मिले कुल विकेट के लगभग 21 प्रतिशत विकेट मिले जबकि इस बीच ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में इस बीच उन्होंने 22 प्रतिशत से अधिक की दर से विकेट हासिल किए. पिछले पांच सालों में ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में यह आंकड़ा 24.04 और 22.24 प्रतिशत रहा जबकि दक्षिण अफ्रीका में यह गिरकर 20.16 प्रतिशत हो गया.

अगर दक्षिण अफ्रीका में विदेशी स्पिनरों के प्रदर्शन पर गौर करें तो 1992 के बाद उन्होंने वहां 27.21 प्रतिशत विकेट हासिल किए लेकिन पिछले दस साल में यह आंकड़ा 26.60 प्रतिशत हो गया. एक दौर था जब शेन वॉर्न (दक्षिण अफ्रीका में 12 मैच में 61 विकेट), अनिल कुंबले (12 मैच में 45 विकेट) और मुथैया मुरलीधरन (छह मैच में 35 विकेट) जैसे स्पिनरों ने दक्षिण अफ्रीका में भी अपनी बलखाती गेंदों का जादू बिखेरा लेकिन इसके बाद कोई भी ऐसा स्पिनर नहीं हुआ जिसने वहां अपना दबदबा बनाया हो.
यहां तक कि दक्षिण अफ्रीका भी पॉल एडम्स (19 मैचों में 57 विकेट), पॉल हैरिस (18 मैचों में 48 विकेट) और निकी बोए (22 मैचों में 35 विकेट) जैसे कुछ स्पिनर ही पैदा कर पाया. अभी उसके पास केशव महाराज हैं जिन्होंने अपनी धरती पर पांच टेस्ट मैचों में 20 विकेट लिए हैं.

क्या अश्विन खोल पाएंगे अपना ख़ाता
भारत के मौजूदा स्पिनरों अश्विन और जडेजा को दक्षिण अफ्रीकी सरज़मीं पर एक-एक टेस्ट मैच खेलने का मौका मिला है. जडेजा ने एक मैच छह विकेट लिए लेकिन अश्विन को अभी इस देश में अपना खाता खोलना है. भारत के पिछले दौरे में जोहानिसबर्ग टेस्ट में 42 ओवर करने के बावजूद अश्विन को विकेट नहीं मिला था. दक्षिण अफ्रीका में भारतीय स्पिनरों के प्रदर्शन पर गौर करें तो भारत ने अब तक वहां जो 17 टेस्ट मैच खेले हैं उनमें 13 स्पिनरों का उपयोग किया जिन्होंने कुल 81 विकेट लिए जो कि भारतीय गेंदबाज़ों को मिले कुल विकेटों (166 विकेट) का 32.80 प्रतिशत है. उसके अलावा उपमहाद्वीप की दो अन्य टीमों श्रीलंका (40.25 प्रतिशत) और पाकिस्तान (33.95 प्रतिशत) के स्पिनरों को ही दक्षिण अफ्रीका में थोड़ी अच्छी सफलता मिली.

ऐसा रहा भारतीय स्पिनर्स का प्रदर्शन
भारत ने हालांकि दक्षिण अफ्रीकी धरती पर अपने स्पिनरों का सबसे अधिक उपयोग किया है. भारत ने 17 मैचों में लगभग 39 प्रतिशत (1202.4 ओवर) गेंदबाज़ी स्पिनरों से करवायी लेकिन वह भी अधिकतर तेज़ गेंदबाज़ों के भरोसे अधिक रहा और उसने 1871.4 ओवर तेज़ गेंदबाज़ों से करवाये. इसलिए यह तय है कि इशांत शर्मा, उमेश यादव, मोहम्मद शमी, भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह को अगले तीनों मैचों में अहम भूमिका निभानी पड़ेगी.

स्पिनर्स vs तेज़ गेंदबाज़
भारतीय तेज़ गेंदबाज़ों ने दक्षिण अफ्रीका में प्रति 11.27 ओवर में एक विकेट हासिल किया जबकि स्पिनरों को इसके लिए औसतन 14.84 ओवर तक इंतज़ार करना पड़ा. यह अलग बात है कि स्पिनरों ने 21.46 प्रतिशत ओवर मेडन करके बल्लेबाज़ों पर दबाव भी बनाया. तेज़ गेंदबाज़ 19.02 प्रतिशत ओवर ही मेडन कर पाए.भारत के बाद दक्षिण अफ्रीकी सरज़मीं पर श्रीलंका (38.38), बांग्लादेश (38.29) और पाकिस्तान (35.66 प्रतिशत) ने अपने स्पिनरों का उपयोग किया लेकिन इंग्लैंड, न्यूज़ीलैंड, वेस्टइंडीज़ और ऑस्ट्रेलिया ने अपने तेज़ गेंदबाज़ों पर बहुत अधिक भरोसा दिखाया.

इन शेहरों में खेले जाएंगे टेस्ट मैच
इस दौरे में भारत को केपटाउन, सेंचुरियन और जोहानिसबर्ग में मैच खेलने हैं. इनमें से केपटाउन के न्यू लैंड्स में स्पिनरों को थोड़ा मदद मिलती रही है जहां उनके नाम पर पिछले दस सालों में 12 मैचों में 84 विकेट दर्ज हैं. इस बीच हालांकि तेज़ गेंदबाज़ों ने इस मैदान पर 274 विकेट लिए. स्पिनरों ने इन सालों में सेंचुरियन में नौ मैचों में 43 और जोहानिसबर्ग में सात मैचों में 30 विकेट लिए जबकि इस दौरान इन्हीं मैदानों पर तेज़ गेंदबाज़ों ने 222 और 201 विकेट हासिल किए.

4:16 pm | Posted in , , , , , , , | Read More »

ट्विटर पर टॉप ट्रेंड में शिल्पा शिंदे, हिना को हराकर बनेंगी बिग बॉस विनर!

शिल्पा शिंदे जब से बिग बॉस के घर पहुंची हैं, तब से चर्चा में हैं. अंगूरी भाभी बनकर इससे पहले भी वो चर्चा में थीं, लेकिन शायद उन्हें इतना प्यार नहीं मिला था, जितना अब मिल रहा है. जानकर आपको हैरानी हो सकती है कि शिल्पा को लेकर फैंस का प्यार अब सोशल मीडिया का ट्रेंडिंग टॉपिक बन गया है.ट्विटर पर #weloveshilpashinde टॉप-10 ट्रेंड्स में शामिल हो गया है. रिपोर्ट्स की मानें, तो कुछ हफ्ते पहले भी WeStandByShilpa हैशटैग के साथ पांच लाख ट्वीट किए गए थे. दुनिया भर में ये कीवर्ड 15वें नंबर पर पहुंच गया था. ये तब हुआ था जब अर्शी खान का व्यवहार शिल्पा की तरफ काफी खराब हो रहा था.अब की बात करें, तो #weloveshilpashinde ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है. इस हैशटैग के साथ एक मिलियन से ज्यादा ट्वीट किए जा चुके हैं.

4:14 pm | Posted in , , , , , | Read More »

'पद्मावती' की रिलीज का रास्ता साफ, अब इस नाम से होगी रिलीज

विवादों में रही पद्मावती फिल्म की रिलीज का रास्ता साफ हो गया है. 26 कट के साथ इसे रिलीज किया जाएगा. शुरुआती जानकारी के मुताबिक, फिल्म का नाम भी बदलकर 'पद्मावत' किया जा सकता है.  फिलहाल सेंसर बोर्ड की प्रक्रिया चल रही है. नए साल में पूरी जानकारी आ सकती है.सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (CBFC) ने फिल्म के साथ एक डिस्क्लेमर लगाने के लिए भी कहा है. इसमें बताया जाएगा कि फिल्म का किसी ऐतिहासिक किरदार या पृष्ठभूमि से कोई लेना-देना नहीं है. बताया जा रहा है कि सेंसर बोर्ड की ओर से बनाई गई समीक्षा समिति के दिशा-निर्देशों पर ये फैसला लिया गया है.फिल्म देखने वाले पैनल में राजा अरविंद सिंह, उदयपुर, जयपुर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर के.के. सिंह और डॉ. चंद्रमणि सिंह भी शामिल थे.कहा ये भी जा रहा है कि फिल्म को यूए सर्टिफिकेट के साथ रिलीज किया जाएगा. अब इंतजार इस बात का है फिल्म जनवरी में ही रिलीज कर दी जाएगी या इसके लिए लंबा इंतजार करना होगा.शेव कराने के बाद ऐसे नजर आए रणवीर

4:12 pm | Posted in , , , , , | Read More »

बॉलीवुड नहीं हॉलीवुड की 'द पोस्ट' करेगी भारतीय बॉक्स ऑफ़िस का शुभारंभ!

हॉलीवुड में फ़िल्म समीक्षकों और दर्शकों की तारीफ़े बटोर रही हॉलीवुड मेगा स्टार टॉम हैंक्स और मेरिल स्ट्रीप की फ़िल्म 'दि पोस्ट' को भारत में 12 जनवरी को रिलीज किया जाएगा. इस फ़िल्म को भारत में रिलीज़ के लिए लंबा समय इसलिए लगा क्योंकि दिसंबर में पद्मावती और टाइगर ज़िंदा है कि रिलीज़ होने वाली थी.'दि पोस्ट' भी कोई छोटी फिल्म नहीं है और भारत में टॉम हैंक्स, मेरिल स्ट्रीप और निर्देशक स्टीवन स्पीलबर्ग के कई चाहने वाले हैं ऐसे में इन भारी भरकम फिल्मों के टकराव को रोकने के लिए ऐसा किया गया.साल 1971 में पेंटागन पेपर्स के नाम से अमेरिका में हुए बड़े खुलासे की सच्ची घटना पर ये फिल्म आधारित है. अमेरिकी अखबार 'द वाशिंगटन पोस्ट' की सपांदक कैथरीन ग्राहम ने अमेरिकी सरकार के 10 मिलियन डॉलर के घोटाले को सबके सामने ला दिया था और इसे रोकने के लिए सरकार ने उनके पेपर के वितरण पर रोक लगा दी थी. इसके बाद भी सरकार से लोहा लेते हुए कैथरीन (मेरिल स्ट्रीप) ने अपने संपादक (टॉम हैंक्स) को इस खबर को छापने के लिए कहा था.इस फिल्म को अमेरिका में बेहद सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है और मेरिल स्ट्रीप और टॉम हैंक्स को एकसाथ पर्दे पर देखना दर्शकों के लिए किसी अदभुत अनुभव से कम नहीं था. ये पहली बार है जब टॉम हैंक्स, मेरिल स्ट्रीप और स्टीवन स्पीलबर्ग एक दूसरे के साथ काम कर रहे हैं.फिल्म की रिलीज से पहले ही "द पोस्ट" को छह गोल्डन ग्लोब नामांकन मिल चुके हैं और फिल्म की समीक्षाएं अभी से साबित कर रही हैं कि ये साल 2018 की सबसे चर्चित फिल्मों में से एक हो सकती है क्योंकि 2018 में ही ऑस्कर अवॉर्ड दिए जाएंगे. भारत में यह फिल्म अभी रिलीज नहीं हुई है और इसे रिलीज किया जाना है.रिलायंस एंटरटेनमेंट द्वारा प्रस्तुत 'द पोस्ट' स्टीवन स्पीलबर्ग द्वारा निर्देशित है और यह फिल्म 12 जनवरी 2018 को भारत में अपनी नाटकीय रिलीज के लिए तैयार है. हालांकि यह अभी भी साफ नहीं है कि इस फिल्म के प्रमोशन के लिए टॉम हैंक्स या मेरिल स्ट्रीप भारत आएंगे या नहीं.

4:10 pm | Posted in , , , , , | Read More »

GST असर: वित्तीय घाटा अनुमान से 112% से ज्यादा

देश का राजकोषीय घाटा नवंबर अंत में ही पूरे साल के लिए तय अनुमान से आगे निकल गया. माल एवं सेवाकर (जीएसटी) के तहत पिछले दो माह के दौरान कम राजस्व प्राप्ति और अधिक खर्च से राजकोषीय घाटे का आंकड़ा नवंबर अंत में ही बजट में तय पूरे साल के अनुमान से आगे निकलकर 112 प्रतिशत हो गया है.महालेखा नियंत्रक (सीजीए) के आंकड़ों के अनुसार, वर्ष 2017-18 में अप्रैल से नवंबर अवधि के दौरान राजकोषीय घाटा 6.12 लाख करोड़ रुपए पर पहुंच गया. जबकि बजट में पूरे वर्ष के दौरान राजकोषीय घाटे के 5.46 लाख करोड़ रुपए रहने का लक्ष्य तय किया गया था. यह तय वार्षिक अनुमान का 112 प्रतिशत तक पहुंच गया जबकि इससे पिछले वर्ष इसी अवधि में यह घाटा वार्षिक बजटअनुमान का 85.8 प्रतिशत था.सरकार ने वर्ष 2017-18 के दौरान राजकोषीय घाटे को सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 3.2 प्रतिशत पर लाने का लक्ष्य रखा है. इससे पिछले वर्ष सरकार राजकोषीय घाटे को जीडीपी के 3.5 प्रतिशत रखने में सफल रही थी. सीजीए के आंकड़ों के अनुसार, चालू वित्त वर्ष की अप्रैल से नवंबर की आठ माह की अवधि में सरकार की कुल राजस्व प्राप्ति 8.04 लाख करोड़ रुपये रही है जो कि उसके वार्षिक बजट अनुमान 15.15 लाख करोड़ रुपये का 53.1 प्रतिशत है. एक साल पहले यह अनुपात 57.8 प्रतिशत रहा था.इस दौरान सरकार का कुल पूंजी व्यय वार्षिक व्यय अनुमान का 59.5 प्रतिशत रहा. जबकि पिछले वर्ष इसी अविध में यह 57.7 प्रतिशत रहा था. सरकार ने 2017-18 में कुल 21,46,735 करोड़ रुपए रखा है जिसमें पूंजी व्यय 3,09,801 करोड़ रुपए रखा गया है. नवंबर 2017 में जीएसटी के तहत राजस्व प्राप्ति सबसे कम रही है. जीएसटी परिषद ने कईवस्तुओं पर जीएसटी दर में कटौती की जिसके बाद नवंबर में जीएसटी प्राप्ति घटकर 80,808 करोड़ रुपए रह गई. इससे पिछले महीने यह 83,000 करोड़ रुपए रही थी. एक जुलाई 2017 को जीएसटी लागू होने के बाद नवंबर में जीएसटी प्राप्ति सबसे कम रही है.

4:08 pm | Posted in , , , , | Read More »

राज्यसभा में कैसे पास होगा तीन तलाक रोकने वाला बिल?

तुरंत तीन तलाक रोकने के लिए पेश किया गया मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक लोकसभा में तो पास हो गया है, लेकिन अब मोदी सरकार के सामने इसे राज्यसभा में पास करवाने की चुनौती है. क्योंकि इसमें बीजेपी को बहुमत नहीं है.ऐसे में उसे अपनी धुर विरोधी पार्टी कांग्रेस का साथ चाहिए. माना जा रहा है कि बीजेपी के नेता इस बाबत कांग्रेस नेताओं से बातचीत कर सकते हैं. कहा जा रहा है कि कांग्रेस अचानक 'सॉफ्ट हिंदुत्व' की राह पर चल पड़ी है, ऐसे में वह राज्यसभा में इस बिल को लेकर सरकार के खिलाफ ज्यादा मुखर नहीं होगी. ऐसा होता है तो मोदी सरकार का काम आसान हो जाएगा.यह विधेयक राज्यसभा में 2 फरवरी को पेश होने की संभावना है. इस समय राज्यसभा में भारतीय जनता पार्टी के 57 सांसद हैं, जबकि, जेडीयू के 7, टीडीपी के 6, शिरोमणि अकाली दल, शिवसेना के 3-3 सांसद हैं. इसके अलावा सरकार को टीआरएस के 3, आरपीआई, नागालैंड पीपल्स फ्रंट (एन पी एफ) और आईएनएलडी के एक-एक सांसद का भी समर्थन मिलने की उम्मीद है.दूसरे ओर, राज्यसभा में कांग्रेस के 57 सांसद हैं. यूपीए में उसकी सहयोगी टीएमसी के 12, एनसीपी के 5, डीएमके के 4, आरजेडी के 3 हैं. गैर-बीजेपी और गैर-कांग्रेसी दलों का भी राज्यसभा के भीतर अच्छा प्रतिनिधित्व है. इनमें समाजवादी पार्टी के 18, एआईएडीएमके के 13, बीजेडी के 8, सीपीएम के 7, बीएसपी के 5 और सीपीआई का 1, सांसद शामिल है.वरिष्ठ पत्रकार हिमांशु मिश्र कहते हैं कि लोकसभा की तरह ही राज्यसभा में यह बिल आसानी से पास नहीं होगा. हालांकि ज्यादातर पार्टियां इसके खिलाफ नहीं हैं, लेकिन कुछ न कुछ संशोधन चाहती हैं.राज्यसभा में बहुमत न होने की वजह से सत्ताधारी पार्टी छोटे दलों को या फिर कांग्रेस को राजी करना होगा. अगर राज्यसभा में मौजूदा बिल को संशोधन के साथ पास किया गया तो उसे फिर लोकसभा में पास करना होगा.  संसद का मौजूदा सत्र 5 जनवरी तक है.

4:06 pm | Posted in , , , , | Read More »

तमिल राजनीति के 'खाली' जगह को भरने के लिए तैयार रजनीकांत

26 दिसंबर से ही चेन्नई के राघवेंद्रम कल्याण मंडपम में अपने प्रशंसकों से मुलाकात कर रहे तमिल फिल्मों के थलैवा यानी बॉस रजनीकांत पर सबकी निगाहें हैं. टॉलीवुड के बॉस के तौर पर अपनी पहचान बनाने वाले रजनीकांत तमिलनाडु के लोगों के दिलों पर लंबे वक्त से राज कर रहे हैं.लेकिन, 31 दिसंबर को अपने अगले कदम का ऐलान करने की बात कह कर उन्होंने तमिलनाडु का सियासी पारा गरमा दिया है. अटकलों का बाजार गर्म है. कयास लगाए जा रहे हैं क्या रजनीकांत अपनी सियासी पारी की शुरुआत तो नहीं करने जा रहे हैं.इस तरह की अटकलों को हवा इसलिए भी मिल रही है क्योंकि रजनीकांत ने खुद ही इस तरह का बयान दिया है जिससे उनकी राजनीति में आने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता. कुछ वक्त पहले ही रजनीकांत ने कहा था ‘राजनीति में हम नए नहीं हैं लेकिन, चिंतन-मनन की जरूरत है. जब युद्ध होगा तो हम देखेंगे और यह युद्ध और कुछ नहीं चुनाव है.’रजनीकांत के इस बयान से साफ है कि वो राजनीति में देर-सबेर इंट्री जरूर करेंगे. नए साल के जश्न से पहले अपने प्रशंसकों के साथ लगातार मुलाकात और नए साल के एक दिन पहले यानी मौजूदा साल के आखिरी दिन किसी बड़े ऐलान का संकेत देकर उन्होंने राजनीति के मैदान में उतरने का संकेत भी दे दिया है.
लंबे वक्त से कयासबाजी का दौर जारी
हांलांकि यह पहला मौका नहीं है जब रजनीकांत के राजनीति में उतरने को लेकर चर्चा चल रही है. पिछले महीने उनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हुई मुलाकात के बाद भी अटकलों का बाजार काफी गर्म रहा. इसके पहले भी रजनीकांत की प्रधानमंत्री से लगातार मुलाकात होती रही है. लेकिन, अब तक न ही बीजेपी से और न ही रजनीकांत की तरफ से इस बारे में औपचारिक तौर पर कुछ बताया गया है.
जयललिता के निधन के बाद शून्य को भरने की कोशिश
तमिलनाडु की मुख्यमंत्री रहते जे. जयललिता के निधन के बाद तमिल राजनीति में एक खालीपन दिख रहा है. जयललिता की विरासत को लेकर उनकी पार्टी एआईएडीएमके के भीतर ही संग्राम मचा हुआ है. ईपीएस और ओपीएस गुट के आपस में विलय के बावजूद जयललिता की करीबी रही शशिकला और उनके भतीजे दिनाकरण की तरफ से उनको तगड़ी चुनौती मिल रही है.
जयललिता के निधन के बाद खाली हुई आरके नगर सीट पर हुए उपचुनाव में दिनाकरण की जीत ने साबित कर दिया है कि विरासत की यह जंग काफी लंबी चलने वाली है. लेकिन, विरासत की इस लड़ाई में नुकसान एआईएडीएमके का ही हो रहा है.
बीजेपी को फिलहाल तमिल राजनीति में अपना पांव जमाने का माकूल वक्त लग रहा है. लेकिन, पार्टी अभी भी काफी सोच-समझकर तमिल राजनीति में कोई कदम बढ़ाना चाहती है. क्योंकि भावनात्मक राजनीति का ज्वार तमिलनाडु में उफान मारता रहता है, ऐसे में कोई भी छोटी गलती बड़ा नुकसान पहुंचा सकती है. बीजेपी फिलहाल राज्य सरकार से बेहतर तालमेल बिठाकर चलने के साथ-साथ वेट एंड वाच की नीति अपना रही है.
दूसरी तरफ, विपक्ष में बैठे डीएमके के प्रमुख करुणानिधि भी लगभग अपनी अंतिम पारी खेल रहे हैं. बुजुर्ग करुणानिधि के बाद डीएमके की राजनीति को लेकर उत्तराधिकार की जंग तेज होने वाली है. हाल ही में करुणानिधि की बेटी कन्निमोझि और ए राजा के टूजी घोटाले में बरी होने के फैसले के बाद उनकी पार्टी को थोड़ी राहत मिल गई है. लेकिन, अभी भी नेतृत्व का संकट पार्टी के सामने एक धुंधलापन लिए खड़ा है.
इसी खालीपन को देखकर तमिल राजनीति में कमल हासन से लेकर रजनीकांत तक के आने की चर्चा हो रही है. टॉलीवुड के साथ-साथ बॉलीवुड के बड़े स्टार कमल हासन ने तो बकायदा अपनी पारी की शुरूआत भी कर दी है. फिलहाल कमल हासन ने बीते 7 नवंबर को अपने जन्मदिन के मौके पर ‘मध्यम व्हिसल’ नाम से एक ऐप लॉन्च कर इसी के माध्यम से अपनी राजनीतिक पारी का आगाज कर दिया है. वो जल्द ही पार्टी बनाकर राजनीति की मैदान में उतरने वाले हैं.
तमिल राजनीति में टॉलीवुड का दबदबा रहा है
तमिल राजनीति में फिल्मी सितारों का पहले से ही दबदबा रहा है. एमजी रामचंद्रन (एमजीआर) के राजनीति में आने से लेकर जयललिता तक का सफर कुछ ऐसा ही रहा है. जहां लोग अपने सुपरस्टार के दीवाने होकर उसे सिंहासन पर बैठा देते हैं.
तमिल फिल्मों और तमिल राजनीति के सुपरस्टार रहे एमजी रामचंद्रन को लेकर तमिलनाडु में काफी सम्मान का भाव रहा है. लेकिन, करुणानिधि के साथ विवाद होने के बाद 1972 में एमजीआर ने डीएमके से अलग होकर अपनी नई पार्टी बना ली थी. वर्ष 1977 से 1987 तक वो तमिलनाडु के मुख्यमंत्री रहे थे.
एमजीआर के निधन के बाद जयललिता ने उनकी विरासत को आगे बढ़ाया था. जयललिता ने भी तमिल फिल्मों में कम उम्र में ही एक अलग पहचान बना ली थी. बाद में एमजीआर ही उन्हें सियासत में लेकर आए थे.
अब सबकी नजरें रजनीकांत पर हैं
रजनीकांत को लेकर भी इसीलिए कयास लगाए जा रहे हैं क्योंकि इस दौर में रजनीकांत कमल हासन से कहीं ज्यादा बड़े स्टार हैं. उनकी लोकप्रियता और उनके चाहने वालों की फेहरिस्त कमल हासन के मुकाबले काफी बड़ी है.
ऐसे में रजनीकांत अगर इस खालीपन को भरने के लिए कोई बड़ा राजनीतिक ऐलान करते हैं तो कोई आश्चर्य नहीं होगा. लेकिन, सवाल अभी भी बना हुआ है कि रजनीकांत अगर राजनीति में आएंगे तो क्या अलग पार्टी बनाएंगे या फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनकी लगातार हो रही मुलाकात कोई गुल खिलाएगी.

4:04 pm | Posted in , , , , | Read More »

सर्वाधिक पढ़ी गयी

Recently Added

Recently Commented