एसडीएम ने सरकारी स्कूलों का किया निरीक्षण

आँखो देखी LIVE,  शमसुद्दीन: बिलग्राम इन दिनों एसडीएम का निरीक्षण अभियान जारी है ब्लाक के सरकारी स्कूल में पहुँचे उनका गहनता से निरीक्षण किया जहां कुछ अच्छा मिला वह पिठ थपथपाई और खमिया मिलनेपर हिदायत भी दी पहले बरगांव प्रथमिक विद्यालय पहुचे यहा पर सभी शिक्षक मौजूद मिले और ड्रेस वितरण प्रगति पर पाया इसी गांव के जूनियर स्कुल में बाक़ी तो सब ठीक पाया लेकिन ड्रेस प्रगति शुन्य पाई इसके बाद प्राथमिक स्कूल गुजरई में पांच टीचर में एक शिक्षिका स्वाति सिह बिना सुचना के अनुपसिथत मिला ड्रेस वितरण की प्रकिर्या शुरू नही की गई

6:47 pm | Posted in , | Read More »

हरदोई से रवि लाला ब्यूरो की रिपोर्ट ब्लाक स्तरीय कृषक जागरूकता कार्यक्रम संचालित किये जायेगेंः-जिलाधिकारी

हरदोई।कृषि उत्पादन में वृद्धि हेतु कृषि प्रसार, कृषि निवेश तथा तकनीकी येाजना के अन्तर्गत ब्लाक स्तरीय कृषक जागरूकता कार्यक्रम संचालित किये जायेगें। जिलाधिकारी विवेक वाष्र्णेय ने बताया कि कृषि उत्पादन में वृद्धि एवं कृषकों को वैज्ञानिक कृषि पद्धति से रूबरू कराये जाने हेतु 01 सितम्बर से समस्त विकास खण्ड कार्यालयों के उ0सं0कृ0प्र0अ0 पर एक दिवसीय किसान मेलांे का आयोजन किया जायेगा। उन्होने बताया है कि 01 सितम्बर को ब्लाक भरखनी में, 02 सितम्बर भरावन, 03 सितम्बर कोथावां, 05 सितम्बर पिहानी, 06 टोडरपुर, 07 सितम्बर बिलग्राम, 08 माधौगंज, 09 सितम्बर मल्लावां, 14 सितम्बर हरपालपुर, 16 सितम्बर साण्डी, 19 सितम्बर बेहन्दर, 20 सितम्बर सुरसा, 21 सितम्बर टड़ियावां, 22 सितम्बर हरियावंा, 23 सितम्बर कछोैना, 24 सितम्बर बावन, 26 सितम्बर अहिरोरी, 27 सितम्बर सण्डीला तथा 28 सितम्बर को शाहाबाद के उ0सं0कृ0प्र0अ0 पर मेले का आयोजन किया जायेगा, जिसमें समस्त राजकीय कृषि बीज भण्डार के नोडल अधिकारी/कर्मचारी मौजूद रहेगें।

6:45 pm | Posted in , | Read More »

लेखपाल संघ की हड़ताल से कार्य ठप



हरदोई।जनपद में चल रही कई दिन से लेखपाल संघ की हड़ताल से जनता परेशान है।लेखपालो की मांगे ना पूरी होने से लेखपाल कई दिन से चल रहे हड़ताल पर।लेखपाल संघ अपनी 6 सूत्री मांगो को लेकर कल विधानसभा घेरने गए थे तभी हजरतगंज चौराहे पर जाम लगने से लेखपालो पर पुलिस ने बरसाई लाठियां।अभी भी अनिश्चित कालीन हड़ताल पर है लेखपाल संघ अब देखो कब होती है मांगे पूरी और कब से होता है लोगो का कार्य।लेखपाल संघ की हड़ताल से स्कूली छात्रो को काफी परेशानी का सामना करना पद रहा है।छात्रो के नहीं बन पा रहे आय,जाति,निवास छात्रों के साथ जनता भी परेशान।

6:44 pm | Posted in , | Read More »

हरदोई से रवि लाला की रिपोर्ट छात्र-छात्राओं से आन लाइन आवेदन पत्र भरवायेंः-शिवानी सिंह

हरदोई से रवि लाला की रिपोर्ट छात्र-छात्राओं से आन लाइन आवेदन पत्र भरवायेंः-शिवानी सिंह
हरदोई।जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी शिवानी सिंह ने बताया है कि वित्तीय वर्ष 2016-17 में पूर्वदशम छात्रवृत्ति योजनान्तर्गत कक्षा 9 व 10 एवं दशमोत्तर छात्रवृत्ति/शुल्क प्रतिपूर्ति योजनान्तर्गत कक्षा 11 व 12 एवं ग्रुप 1, 2, 3, 4 के पाठ्यक्रम के छात्रों हेतु दिनाॅक 01 जुलाई 2016 से आॅनलाइन नये/ नवीनीकरण आवेदन पत्र भरने की प्रक्रिया प्रारम्भ हो गयी है। जनपद की समस्त शिक्षण संस्थाएं शासन द्वारा निर्धारित समय-सारणी के अनुसार छात्रवृत्ति एवं शुल्क प्रतिपूर्ति हेतु समस्त पात्र छात्र/छात्राओं से आॅनलाइन आवेदन पत्र भरवायें।

6:43 pm | Posted in , | Read More »

जहाँगीरपुर क्षेत्र मे रहस्यमयी बुखार से दो की मौत, स्वास्थ्य विभाग अन्जान


ग्रेटर नोएडा के जहाँगीरपुर कस्बे मे कहर बरपा रहा है बुखार
सोनू शर्मा संवाददाता, ग्रेटर नोएडा के जहाँगीरपुर कस्बे और उसके आसपास के क्षेत्र मे आम जनता रहस्यमयी बुखार की चपेट में है कस्बे के अधिकतर परिवारों मे कोई ना कोई सदस्य इस बुखार ने अपने आगोश ले रखा है स्थानीय क्लीनिक बुखार से पीड़ित मरीजों से भरे पड़े हैं कल लौदोना निवासी सोनू की आठ वर्षीय पुत्री राधिका की और आज जहाँगीरपुर कस्बे के मौहल्ला स्वामीपाड़ा निवासी बासठ वर्षीय भगवत शर्मा की बुखार की चपेट में आने से मौत हो गई है इस बुखार की वजह से जहाँ आम जनता खौफ मे जी रही है वहीं दूसरी तरफ गौतमबुद्धनगर स्वास्थ्य विभाग बिल्कुल अन्जान बना हुआ है अभी तक किसी भी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने क्षेत्र का दौरा करनी की जहमत नही उठाई है न ही इस रहस्यमयी बुखार के रोकथाम के लिए कोई आवश्यक कदम उठाये हैं गौरतलब है कि जहाँगीरपुर कस्बे से सटे बुलन्दशहर जिले के ग्राम हसनपुर मे भी बुखार से आधा दर्जन मौतें हो चुकी है

6:42 pm | Posted in , | Read More »

खाकी का दर्द, अन्जान बनते अधिकारी और जनता के लगते आरोप


( लेखक सोनू शर्मा नोयडा )
खाकी, खाकी, खाकी, ये वही खाकी जिसके सान्निध्य मे आम जनता अपने आप को सुरक्षित महसूस करती है जब रात के अंधेरे में आप सुनसान रास्ते से गुजरते हैं और आपको डर लगने लगता है आप अपने आपको असुरक्षित महसूस कर रहे हो तब आपको अचानक सामने कोई पुलिसकर्मी दिख जाये तो आपका खुशी का ठिकाना नहीं रहता है और आप अपने आप को सुरक्षित महसूस करने लगते हैं पुलिस की जितनी बुरी छवि दिखाई देती है हकीकत मे पुलिस उतनी बुरी नही है पुलिस वाले जिस मुजरिम को अपनी जान जोखिम में डाल कर पकडते हैं उन्हें वकील मात्र पाँच मिनट में जमानत दिलवा देते हैं बीस साल के स्थायी वारंटी को वकील एक दिन से ज्यादा जेल में नहीं रहने देते हैं  यही पुलिस वाले दिन हो या रात अपनी ड्यूटी इमानदारी से निभाते हैं कोई भी त्यौहार परिवार के साथ मनाने का सौभाग्य तो इनको मिल ही नहीं पाता है इनकी सैलेरी इतनी कम है कि इनसे ज्यादा तो एक ठेला वाला भी कमा लेता है ड्यूटी भी चौबीस घंटे की और सरकारी आवास नाम मात्र के वो भी इतने छोटे की बता भी नहीं सकते हैं अगर घर पर कोई मेहमान आ जाये तो सोचने पर मजबूर हो जाते हैं कि कहाँ और कैसे सोयेगें और ये आवास भी सभी जगह उपलब्ध नही है और आवास उपलब्ध न होने की स्थिति मे उसके बदले मिलने वाला आवासीय भत्ता भी नाम मात्र का मिलता है कहने को तो एक साल में साठ छुट्टियाँ हैं लेकिन छः छुट्टियां भी मुश्किल नही मिल पाती है असलियत मे हर चौराहे और तिराहों पर पुलिस तैनात मिलती है इसलिए उसका छोटा-मोटा भ्रष्टाचार भी सबकी नज़र में
रहता है वास्तव में भ्रष्टाचार देखना हो तो
चकबंदी कार्यालय, अस्पताल, विकास भवन, कलेक्ट्रेट और बैंकों में जाईये जहाँ पर लेखपाल अच्छे-भले खेत की जगह बंजर दे देता है बंजर भूमि की जगह उपजाऊ जमीन दे देता है डाक्टर हल्की चोट पर ही धारा 307 की रिपोर्ट बनाकर दे देता है क्लर्क दस हजार रुपये लेकर पच्चीस-तीस हजार का इंदिरा आवास देता है बैंक मैनेजर एक लाख रुपये का ऋण दस हजार रुपये लेकर मंजूर करता है बैंक प्रबन्धक दस-पंद्रह हजार लेकर मंजूर करता है क्या आम जनता इन जगहों पर भ्रष्टाचार नजर नहीं आता है उनको सिर्फ पुलिस विभाग मे ही भ्रष्टाचार नजर आता है अगर पुलिस ना हो तो सभी जगह हाहाकार मच जायेगा अगर आप कुछ गलत करने का सोच रहे हैं तो सबसे पहले आपके मन मे पुलिस का ही विचार आता है यदि पुलिस पर से सिर्फ राजनैतिक दबाव खत्म हो जाये तो पुलिस आज भी सौ प्रतिशत ईमानदार हो जायेगी जो आप लोगों की सुरक्षा के लिए अपने सारे सपनों और अरमानों को कुर्बान कर देती है धूप हो या छाँव, रात हो या दिन, बारिश, आँधी या फिर हो तूफान बस खाकी आम जनता की सुरक्षा और सहयोग के लिए खड़ी रहती है क्या कभी आपने सोचा है  कि उनके पीछे उनका एक परिवार है जिस परिवार माता-पिता, बहन भाई, बीबी बच्चे है उनका भी अपने परिवार के प्रति कुछ दायित्व है लेकिन वो अपने परिवार के प्रति दायित्वों क्या कभी पूरा कर पाये हैं कभी, नही क्यों नही पूरा कर पाये हैं ये सोचा है आपने कभी भला आप क्यों सोचने लगे क्योंकि आपमे से कुछ लोग कहेंगे कि क्या उनको सरकार तनख्वाह नही देती है जब पुलिस की नौकरी इतनी परेशानी की है तो करते क्यो है और फिर सबसे अच्छी कमाई तो उनकी नंबर दो की है ये तो सब वैसे ही कहते हैं पुलिस की नौकरी बहुत मजे की है तो मै आपकी इन सारी बातों का बिन्दूवार जवाब दूगाँ तो सबसे पहले बात करते हैं तनख्वाह की क्या आपको ये मालूम है कि अगर सरकार उनको तनख्वाह दे रही है तो कितने समय की डूयूटी के लिए नही पता तो मै बता रहा हूँ चौबीस घंटे की डूयूटी के लिए क्या आप मे है इतनी शक्ति कि आप चौबीस घंटे की डूयूटी कर सकें दूसरा आप कह रहे थे कि क्या पुलिस की नौकरी करनी जरूरी है तो ये बात तो वही लोग कह रहें होगें जिन्होंने कभी भी कमा कर के नही खाया होगा जो अपने माँ बाप की कमाई पर ऐश कर रहे होंगे क्योंकि जिसके पीछे परिवार है तो उसे तो नौकरी करनी बहुत जरूरी है चाहे परेशानी भरी हो या नहीं, लेकिन इसका मतलब ये तो है नही कि वो पुलिस की नौकरी कर रहे हैं तो उनकी कोई परेशानी या समस्या नही है या हम उनकी समस्याओं को नजरअंदाज करते रहे ऐसा सिर्फ स्वार्थी लोग ही सोचते हैं उन से पूछिये जिनके बेटे और भाई पुलिस मे नौकरी कर रहे हैं वो बतायेंगे कि उनका दर्द क्या है और आप कह रहे थे इनकी नंबर दो की कमाई बहुत अच्छी है तो क्या आप लोगों ने कभी ये सोचा है कि उस नंबर दो कमाई के सबसे बड़े गुनाहगार तो आप लोग ही हैं क्योंकि जब आप का बेटा या भाई जब किसी केस में फँसता तो आप जैसे ही लोग पुलिस को घूस देने की पेशकश करते हो जब पुलिस कहती नही हमे पैसे नही चाहिये तो आप लोग और बड़ी सिफारिश और पैसे लेकर फिर पुलिस पर दबाव बनाते हो क्योंकि उस वक्त कैसे भी तुम्हारा बेटा या भाई छूटना चाहिए और जब आप अपने इस मिशन मे कामयाब हो जाते हैं तो फिर कहते हैं कि पुलिस तो रिश्वतखोर है लेकिन अपने गिरेबान मे झाँककर आज तक नहीं देखा होगा उल्टे उन पर आरोप लगाने मे जरा भी शर्म नही आती है कि आप लोगों के लिए वो अपनी सारी खुशियां कुर्बान कर देते हैं जब आप होली दीवाली ईद जैसे त्यौहारों पर घर नही जाओगे तो आपको कैसा लगेगा, जब रक्षाबंधन के दिन आपकी बहन राखी लिये तुम्हारी राह देख रही होगी और आप जब उससे कहोगे मै नही आ पाऊँगा तो आपको कैसा लगेगा जब आपके भाई या बहन की शादी हो रही हो और आप छुट्टी न मिलने के कारण नही शामिल हो पा रहे तो आपको कैसा लगेगा बुरा लगेगा ना आपको तो मै ये ही आपको बता रहा हूँ कि इस दर्द को आज हमारी खाकी झेल रही है ना समय पर छुट्टियां मिल पाती हैं ना सप्ताह मे आराम के लिए एक भी दिन, जिसकी वजह से उन लोगों को मानसिक रूप से से परेशानी होने लगती है इन को बिना घर जाये कई कई महीने हो जाते हैं इतनी परेशानी होने के बाद सरकारी सुविधा भी न के बराबर है आखिर ये करें तो क्या करें कौन सुनेगा इनकी और किसे सुनाये आखिर ये भी हमारी तरह इंसान ही है इनका भी परिवार के साथ कुछ समय बिताने का मन करता है मै आपको एक बार की बात बताता हूँ मुझे एक व्यक्ति मिला जिसने मुझे बताया कि आगे पुलिस चैकिंग कर रही है मेरी मोटरसाइकिल को पैसेऊलेकर छोड़ा है इनको हर समय रिश्वत चाहिए तो मैने उससे पूछा कि किस बात के पैसे लिये हैं तुझसे तो वो बोला लाईसेंस और हेल्मेट नही था मैने पूछा क्या पुलिस ने तुझ से पैसे माँगे थे वो बोला नही वो तो मेरा चालान काट रहे थे तब मैने उनको पैसे देकर रूकवा लिया तो मैने कहा कि इसमें तेरी ही गलती थी तुझे कागज सारे अपने मे साथ रखने चाहिए थे  और फिर तुने अपनी मर्जी से ही पुलिस को पैसे दिये हैं इसमे पुलिस का क्या दोष है वो तो अपना कार्य सही ढंग से कर रही है आप जैसे लोग ही पुलिस को सही कार्य नही करने दे रहे हैं खाकी के इस दर्द को ना तो वरिष्ठ अधिकारी समझ पा रहे हैं ना ही आम जनता, जिसका परिणाम ये हो रहा है कि अधिकतर पुलिसकर्मी मानसिक रूप से परेशान रहने लगे हैं इसका ताजा उदाहरण अभी कुछ समय पूर्व बुलन्दशहर पुलिस लाईन हुआ हादसा तो आपको याद होगा वह भी छुट्टी न मिलने और सीनियरों द्वारा लगातार प्रताड़ित किया जा रहा था जिसका परिणाम क्या निकला ये आप सभी को पता है यह समस्या पुलिस विभाग मे छोटे स्तर पर ही नहीं बड़े स्तर पर भी है बस फर्क सिर्फ इतना है कि पुलिस विभाग के छोटे कर्मचारियों की समस्या कुछ ज्यादा ही संख्या मे है अब जाकर मुख्यमंत्री महोदय ने दस दिन पर एक अवकाश की घोषणा की है लेकिन छुट्टियों और उनको सुविधा देने के नाम पर कुछ भी नही किया है अगर वरिष्ठ अधिकारी चाहे तो इनकी समस्याओं को जानकर शासन को अवगत कराते हुए समस्या के निदान का प्रयास तो कर सकते हैं लेकिन नही करेगें क्योंकि फिर उनकी हुकूमत कुछ कम हो जायेगी हमारा वरिष्ठ अधिकारियों से अनुरोध है कि अगर किसी विभाग मे छोटे कर्मचारी सही है तो वरिष्ठ अधिकारी भी सही है अगर छोटे कर्मचारी सही नही है तो आप भी अपने को सही मत समझना क्योंकि छोटे कर्मचारी ही आपके विभाग की जान होते हैं वैसे मै जो इस लेख को लिख रहा हूँ तो मेरे मन भी एक विचार आ रहा है कि कुछ लोग मेरे बारे मे क्या सोचेंगे कोई मुझे पुलिस का दल्ला कहेगा, कोई पुलिस चमचा कहेगा और पता नहीं मेरा क्या क्या नामकरण किया जायेगा लेकिन मुझ इस बात की कोई परवाह नही है क्योंकि जो इन बातों की परवाह करेगा वो पत्रकार नही कहलाता है पत्रकार का कार्य है बिना डरे सच्चाई जनता के समक्ष लाये चाहे वो किसी सरकारी विभाग की हो या आम जनता की हो
## अधिकारी पुलिसकर्मियों का मनोबल बढ़ाने के लिये इस पर ध्यान अवश्य दें ##
आजकल एक दर्द और भी है जो खाकी को छुट्टियों के अलावा सबसे ज्यादा मानसिक परेशानी दे रहा है वो ये है कि कुछ राजनीतिक  या संगठनों के नेता आजकल अपने थाने के सबसे तेज तर्रार, कामयाब, ईमानदार पुलिसकर्मियों को निशाना बनाते हैं या तो ये पुलिसकर्मी उनकी सभी बाते को माने और इनकी चापलूसी करते रहे तो ठीक है नही तो ये कहीं पर इन पुलिसकर्मियों के खिलाफ पचास सौ लोगों को इकट्ठा करके धरने पर बैठ जाते हैं कि ये पुलिस वाला ठीक नहीं है ये रिश्वतखोर, जूओं के अड्डे चलाता है , शराब बिकवाता है, वाहनों से अवैध वसूली करता है इसको हटाओ इससे जनता बहुत परेशान हैं और अधिकारी इन नेताओं के दबाव आकर ऐसे पुलिसकर्मियों को हटा देते हैं जिसका प्रभाव ये पड़ता है कि वो पुलिसकर्मी जहाँ पर भी जायेगा ऐसे नेताओं की या तो चापलूसी करेगा या मानसिक रूप से परेशान रहेगा कि मै किस विभाग मे नौकरी कर रहा हूँ जहाँ के अधिकारी अपने कर्मचारियों पर भरोसा करने की बजाय छुटपुट नेताओं की बात पर भरोसा करते हैं और हटाये गये पुलिसकर्मी की जगह जो भी दूसरा पुलिसकर्मी जब वहाँ जायेगा और उसे जब यह पता चलेगा कि उस नेताजी ने उस पुलिस वाले को हटवा दिया था तो वो भी नेताजी की जी हजूरी करने लगेगा और इस तरह पुलिस विभाग मे हर समय अपने विभाग के कार्यो के लिए तत्पर रहने वाले पुलिसकर्मियों की कमी महसूस करेगा क्योंकि वो अगर सही कार्य करेगा तो उसे तो राजनेताओं और सामाजिक संगठनों के गुस्से का शिकार होना पड़ेगा मै ये नही कह रहा कि सभी पुलिस कर्मी दूध के धूले है सभी ईमानदार हैं लेकिन जब ऐसे नेताओं द्वारा किसी भी पुलिसकर्मियों हटाने की बात जब भी आये तो अधिकारियों का फर्ज है कि पहले जाँच करे और अगर वो दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ कार्यवाही करे और निर्दोष पाये जाने पर आरोप लगाने वाले नेताजी के खिलाफ कार्यवाही करे इससे पुलिसकर्मियों के गिरते जा रहे मनोबल मे वृद्धि होगी और पुलिसकर्मी अपने कार्य को और ईमानदारी व मेहनत से अंजाम देगें अगर हमारे इस लेख से किसी को भी किसी तरह की आपत्ति /परेशानी है तो हम उनसे क्षमा चाहते हैं
नोट ::ये सभी विचार लेखक के अपने है अन्य किसी का इन विचारों से सहमत होना जरूरी नही है लेख पर अपनी प्रतिक्रिया अवश्य व्यक्त करें इस लेख के साथ छेड़छाड़ या काॅपी पेस्ट करना कानूनी रूप से अपराध है

2:57 pm | Posted in , , | Read More »

गाजियाबाद के भाजपा नेता ब्रजपाल तेवतिया पर हमला करने वाला मुख्य आरोपी गिरफ्तार


नोयडा एस टी एफ को मिली बड़ी सफलता
सोनू शर्मा संवाददाता, नोयडा एस टी एफ ने गाजियाबाद के भाजपा नेता ब्रजपाल तेवतिया पर जानलेवा हमला करने वाले मुख्य आरोपी मनीष दीवान को गिरफ्तार कर बड़ी सफलता प्राप्त कर ली है जिस एके-47 और कारबाइन से ब्रजपाल तेवतिया हमला हुआ था वह हथियार गैंगस्टर राकेश हसनपुरिया के थे जो उसने अपने एनकाउंटर से पहले मनीष के यहाँ पर रख दिये थे उस वक्त मनीष के परिवार ने हथियारों को मनोज के साले म संसार सिंह निवासी मेरठ के पास सुरक्षित रखवा दिए थे ग्यारह साल बाद जब ब्रजपाल तेवतिया की मुखबिरी से दिल्ली में पुलिस के साथ मुठभेड़ में  सुरेश दीवान मारा गया तो उसके बेटे मनीष ने पिता की हत्या का बदला लेने के एक योजना अपने चाचा मनोज के साथ बनायी तो मनोज अपने साले संसार सिह के पास सुरक्षित रखी ए के 47 और कारबाईन को वापिस मँगवा लिया योजना तैयार कर पिस्टल के साथ साथ इन्हीं दोनों हथियारों से भाजपा नेता ब्रजपाल पर तीन अगस्त को हुए रावली रोड मुरादनगर में गोलियां बरसाई गई थी लेकिन वह हमले में गंभीर रूप से घायल हो गए ब्रजपाल को समय रहते उपचार मिल जाने से बचा लिया गया इस समय भी उनका फोर्टिस अस्पताल में उपचार चल रहा है इस हमले मे शामिल तीन शूटरों को एसटीएफ ने पहले ही गिरफ्तार कर लिया है वहीं अब एसटीएफ ने इस हमले के मास्टर माइंड मनीष दीवान को मंगलवार को गिरफ्तार कर उसके पास से कारबाईन बरामद कर ली है मनीष ने ही एसटीएफ को पूछताछ के दौरान एके 47 और कारबाईन के बारे में जानकारी दी है अब फरार चल रहे संसार सिंह व मनोज की गिरफ्तारी के बाद ही पता चल सकेगा की दोनों हथियार कहां से लूटे गए थे

2:56 pm | Posted in , | Read More »

हरदोई से रवि लाला ब्यूरो की रिपोर्ट हाईटेक होंगे कस्तूरबा विद्यालयः- जिलाधिकारी



हरदोई।जिले के सभी कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों को अति आधुनिक संशाधनांे से युक्त किया जायेगा। साथ ही विद्यालय भवनों का रंग रोगन आदि कराया जायेगा। यह जानकारी जिलाधिकारी विवेक वाष्र्णेय ने गत दिवस कलेक्ट्रेट स्थित सभागार में कस्तूरबा गाॅधी आवासीय बालिका विद्यालय संचालन समिति की आयोजित प्रथम बैठक के अवसर पर दी। उन्होने बताया कि जनपद में संचालित 20 कस्तूरबा गाॅधी आवासीय बालिका विद्यालयों सण्डीला, भरावन, कोथावां, बिलग्राम, साण्डी, भरखनी, टड़ियावां, हरियावंा, माधौगंज, मल्लावां, कछौना, सुरसा, हरपालुपर, टोडरपुर, शाहाबाद, बावन, पिहानी, अहिरोरी, बेहन्दर तथा बिलहरी में अपवंचित वर्ग की 100 बालिकाएं प्रत्येक विद्यालय में अध्ययनरत है जिनकी शिक्षा, सुरक्षा, स्वास्थ्य, मनोरंजन को दृष्टिगत जिले के सभी विद्यालयों को हाईटेक किया जायेगा। छात्राओं की हाईटेक शिक्षा हेतु कम्प्यूटर एवं इन्टरनेट कनेक्शन मुहैया कराया जायेगा। उनकी सुरक्षा सुनिश्चित किये जाने हेतु चहारदीवारी, मुख्यद्वार, दरवाजे, खिड़की की समुचित व्यवस्था की जायेगी। इसके साथ ही स्वास्थ्य को दृष्टिगत भवन की समस्त खिड़कियों में शीशे जाली की व्यवस्था, शौचालयों की मरम्मत, जल निकासी की समुचित व्यवस्था, भोजन ग्रह में पूर्ण सफाई, भवन की रंगाई पुताई, आन्तरिक साज सज्जा, पर्दे, फर्नीचर की समुचित उपलब्धता, बेड सीट, तकिया रजाई गद्दों की नियमित सफाई करायी जायेगी। शुद्ध पेयजल हेतु आर0ओ0 स्थापित किये जायेगें। जिलाधिकारी ने बताया कि विद्यालयों में अध्ययनरत छात्राओं के मनोरंजन हेतु टी0वी0 व डिश कनेक्शन मुहैया कराये जायेगे। जिन विद्यालयों में विद्युत कनेक्शन नही है उनमें कनेक्शन शीघ्र दिलाया जायेगा। विद्यालय प्रांगण हरा-भरा दिखे इसके लिये प्रांगण में फल तथा छायादार वृक्षों का रोपड़ तथा गमलों में पुष्प आदि का रोपड़ कराया जायेगा। जिलाधिकारी श्री वाष्र्णेय ने कस्तूरबा गाॅधी आवासीय बालिका विद्यालय संचालन समिति के सदस्यों से शासन की इस मुहिम में ईमानदारी के साथ लगकर सक्रियता से कार्य को अन्जाम तक पहंचाने हेतु कहा। उन्होने धन की कमी न होने के लिये भी समिति को आश्वस्त किया। बैठक में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, प्रधानाचार्य राजकीय बालिका इण्टर कालेज सहित कस्तूरबा विद्यालयों की वार्डेन आदि मौजूद रही।

7:50 pm | Posted in , | Read More »

मध्यान्ह भोजन योजना में लापरवाही पर ए0बी0एस0ए0 टडियावां को प्रतिकूल प्रविष्टि

हरदोई से रवि लाला ब्यूरो : की रिपोर्ट। मध्यान्ह भोजन योजना में लापरवाही पर ए0बी0एस0ए0 टडियावां को प्रतिकूल प्रविष्टि मरदान नगर के प्रधान अध्यापक के निलंबन तथा रसोईयें की सेवा समाप्ति के आदेश
हरदोई।विकास खण्ड टडियावां के प्राथमिक विद्यालय मरदान नगर में मिड-डे-मील के अन्तर्गत बच्चों को दी गयी सोयाबीन की सब्जी में कीड़े निकलने के मामले में जिलाधिकारी विवेक वाष्र्णेय ने सख्त रूप अपनाते हुये खण्ड शिक्षा अधिकारी, प्रधानाध्यापक तथा रसोईये के विरूद्ध कार्यवाही के आदेश दिये हैं। गत दिवस प्राथमिक विद्यालय मरदान नगर में मिड-डे-मील में सोयाबीन की सब्जी बच्चों को दी गयी थी। सब्जी में कीड़े निकलने की शिकायत पर उप जिलाधिकारी सदर व जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा जांच की गयी। जिलाधिकारी ने मिड-डे-मील में लापरवाही बरतने पर खण्ड शिक्षा अधिकारी टडियावां शैलेश द्विवेदी को प्रतिकूल प्रविष्टि, प्रधानाध्यापिक रीता देवी पाल के निलंबन तथा रसोईयां विट्टू देवी की सेवायें समाप्त करने के आदेश दिये हैं।जिलाधिकारी ने सभी खण्ड शिक्षा अधिकारियों से कहा कि विद्यालयों का नियमित निरीक्षण किया जाये और यह सुनिश्चित किया जाये कि मिड-डे-मील में गुणवत्ता युक्त खाद्य सामग्री तथा ब्राण्डेड पैक बंद मसालों और एगमार्क युक्त तेल का प्रयोग किया जाये। इसमें किसी भी स्तर पर लापरवाही न बरती जाये। लापरवाही पाये जाने पर प्रधानाध्यापक के साथ-साथ संबंधित खण्ड शिक्षा अधिकारी पर भी कार्यवाही की जायेगी।

7:48 pm | Posted in , | Read More »

पुलिस पर चढ़ा तांत्रिको के तंत्र का मन्त्र 

REPORTER-salman malik :   रूडकी नगर की पहचान देश में शिक्षा नगरी के रूप में की जाती है यहाँ पर आई० आई० टी० ,एन० आई० एच० और सी० बी०आर० आई० जैसे देश के नामचीन संस्थान है जो की देश को बेहद शानदार वैज्ञाविक अौर इंजिनियर प्रदान कर रहे हैं मगर आजकल इस शिक्षा नगरी की शान को कुछ तांत्रिको ने अपनी करतूतों से पलीता लगाना शुरू कर दिया है यह सिलसिला करीब पिछले एक साल से जारी है और दिन प्रति दिन बढ़ता ही जा रहा है इन तांत्रिको को किसी भी तरह का कोई डर नहीं है यह तांत्रिक अपनी झूठी तंत्र मन्त्र क्रियाओ से लोगो में ना सिर्फ अन्धविश्वाश को बढ़ावा दे रहे  बल्कि लोगो को उनकी समस्याओं का हल कराने के नाम पर उनसे खुलेआम ठगी भी कर रहे है इन तांत्रिको का शिकार बने लोग आये दिन पुलिस से शिकायत करते रहते है लेकिन पुलिस के द्वारा कोई कार्यवाही नहीं होने पर मायूस होकर वापस चले जाते है पुलिस की ऐसी कार्यशैली को देखकर ऐसा लगता है की इन फर्जी तांत्रिको के तंत्र मन्त्र का असर पुलिस पर भी हो रहा है  ताजा मामला परवेज का है जो रुड़की के पास के ही गाँव का रहने वाला है जिससे इन तांत्रिको ने इलाज के नाम पर करीब 80 हजार रूपये ठग लिए परवेज के परिजनों को जब इस बात का पता चला तो उन्होंने पुलिस से शिकायत की लेकिन कोतवाली के कई चक्कर लगाने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई  दूसरा मामला प्रवीण का है जो बेहद ही खतरनाक है जिसमे की चंद दिनों पहले ही इन तांत्रिको के द्वारा प्रवीण नाम के एक युवक  की बलि देने का मामला सामने आया था लेकिन जिस समय युवक का गला काटकर बलि दी जा रही थी तभी कुछ लोगो के शोर मचाने के बाद तांत्रिक फरार हो गए थे प्रवीण को इलाज के लिए हायर सेंटर भेजना पड़ा था गला कटने की वजह से प्रवीण अपनी आवाज तक खो बैठा है इस मामले में पुलिस ने हत्या के प्रयास का मुकदमा तो दर्ज किया गया था लेकिन कोई गिरफ्तारी नहीं की है
आज भी इन तांत्रिको को लेकर पुलिस के हाथ पूरी तरह से खाली है रुड़की शहर में जगह जगह इन तांत्रिको के ऑफिस सजे हुए है जोकि पूरी तरह से पुलिस की जानकारी में है लेकिन पुलिस क्या करे जब पुलिस पर ही इन तांत्रिको के तंत्र का मन्त्र पूरी तरह  चढ़ा हुआ है

7:06 pm | Posted in , | Read More »

समान चौराहा मे मुन्नी साकेत के ऊपर बस चढ़ी मुन्नी की दर्दनाक मौत ।

अन्तर्राष्ट्रीय बस स्टैडं के बनने के बाद बसे टैक्सिया  नेशनल हाइवे पर खड़े होकर सवारी भरती है सड़क चौबीसो घंटे जाम रहती है   समान चौक की शराब दुकान के कारण गरीब बस्ती के बच्चे महिलाये तक शराब पीते और बेचते है  ।ठेलो मे शराब बिकती है  पुलिस मूकदर्शक तमाशा देखती है जब तक सवारी भरने का काम बस अड्डे के अंदर नही होगा तब तक आम जनता शहीद होती रहेगी  मुन्नी की मृत्यु के बाद आम जनता आक्रोशितहुई पुलिस ने लाठी चार्ज किया मुन्नी की दुखद मृत्यु पर शोक संवेदना

7:07 pm | Posted in , | Read More »

सर्वाधिक पढ़ी गयी

Recently Added

Recently Commented