ऋषि कपूर ने ट्वीट की 'लिंगम स्वामी' की तस्वीर, मचा हड़कंप

ऋषि ने नागा साधू पर साधा निशानाबॉलीवुड अभिनेता ऋषि कपूर एक बार फिर एक अपने ट्वीट को लेकर चर्चा में हैं। आमतौर पर बाबाओं को निशाने पर रखने वाले ऋषि कपूर ने इस बार एक नागा सााधू की एक बेहद विवादित तस्वीर और विवादित जानकारी शेयर की है। जिसमें बाबा के गुप्तांगों के बारे में टिप्पणी की गई है। इसके बाद ट्विटर पर जमकर हड़कंप मचा हुआ है।

इसके बाद ऋषि ने एक अन्य ट्वीट कर लोगों से जागरुक होने को कहा। बता दें, ऋषि कपूर अपने ट्विटर अकाउंट से लगातार फिल्म इंडस्ट्री और समाजिक पहलुओं पर आलोचना-समालोचना करते रहे हैं। इसमें देश के आध्यात्‍मिक गुरुओं और बाबाओं को उन्होंने आड़े हाथों लिया है।

इससे पहले भी वे सत्य साई, ओसो, राधे मां, आसाराम बापू पर तीखा निशाना साध चुके हैं। अब उन्होंने एक ऐसे नागा के बारे में बताया है, जो अपने गुप्तांग से लोगों को ताउम्र पौरुष शक्ति बनाए रखने का वरदान ‌और आशीर्वाद देते हैं। अगली स्लाइड में उनकी पूरी जानकारी दी गई है।

6:36 pm | Posted in | Read More »

अदानी समूह द्वारा स्थापित किए गए साईलो का निरीक्षण--खरीद में सक्षम राज्यों में निगम द्वारा खरीद नहीं करने का फैसला

Displaying DSCN8808.JPGकैथल, 4 सित बर (राजकुमार अग्रवाल ) भारतीय खाद्य निगम के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक श्री योगेंद्र त्रिपाठी ने शहर में  निगम के गोदामों तथा ढांड के समीप अदानी समूह द्वारा स्थापित किए गए साईलो का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि जो राज्य खरीद में सक्षम हैं, उन राज्यों में निगम द्वारा

3:49 pm | Posted in , | Read More »

फसल पर पड़ी भयानक बीमारी की छाया- सूखी कपास की फसल

कैथल  (राजकुमार अग्रवाल )

क्षेत्र में किसानों का सफेद सोना बीमारी के चलते खराब होने से किसानों की जिंदगी दांव पर लग गई। किसान पहले से ही साहूकारों के कर्ज बंध है और अब यही सही कसर इस फसल ने निकाल दी है। किसान कपास की फसल को सोना से भी ज्यादा महत्व देते है। कम वर्षा व पानी से होने वाली यह फसल इस क्षेत्र की मुख्य फसल है। यह प्रति एकड़ 35 मन से भी ज्यादा निकलती है। इस का बाजार भाव भी लगभग 5 हजार से अधिक रहता है। किसान दिनेश जाखौली, जयप्रकाश शर्मा, बलवान, पृर्थी, अजमेर, फुल कुमार आदि ने बताया कि इस प्रकार से एक एकड़ में से 50 हजार से भी अधिक की पैदावार हो जाती है। यही सोच कर किसान इस को अधिक संख्या में लगाते है। इस पर खर्चा भी कम आता है। इस क्षेत्र में धान की खेती खर्चा ज्यादा आने के बावजूद भी पैदा वार कम होती है। अब की बार इस फसल पर भयानक बीमारी की छाया पड़ गई है। किसानों के देखते ही देखते यह कपास की फसल सुख रही है। इसके ऊपर जो फल (ड़ोड़े) आये हुये है, वे भी सुख कर नीचे गिर रहे है। इसके पत्ते पहले सफेद या काले होते है और बाद में इस फसल का पौधा सुख जाता है। इस प्रकार हर रोज यह फसल खराब हो गई है। दुकान दार के कहने पर उनको अपनी फसल बचाने के लिये हर सप्ताह दवाई का स्प्रे करना पड़ रहा है। जिस पर वे अब तक कई हजार की दवाई का स्प्रे कर चुके है, परन्तु उसके बाद भी अपनी कपास की फसल को नही बचा पाये। किसानों ने इसकी गिरदावरी करवा कर जल्दी ही मुआवजा देने की मांग की है। 

सारे उत्तर भारत में है यह बीमारी- जसबीर

इस बारे में कृषि वैज्ञानिक डाक्टर जसवीर ने बताया कि यह वाईट फ्लाइ नाम की बीमारी है। जो सारे उत्तर भारत में इस कपास की फसल पर है। किसान कई दवाईयों का मिश्रण करके भी इस पर छिड़काव कर रहे है। उसके बाद भी यह काबू नही आ रही है। किसान ट्राईजोपोस व इथोवन-800 का घोल बना कर भी छिड़काव कर सकते है।

4:37 pm | Posted in , | Read More »

सर्वाधिक पढ़ी गयी

Recently Added

Recently Commented